नई दिल्ली। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप इस महीने 21 और 22 फरवरी को पीएम मोदी के निमंत्रण पर भारत की यात्रा पर आ रहे हैं। इस दौरान दोनों नेता स्वाभाविक सहयोग के लिए महत्वाकांक्षी विजन की रूपरेखा तैयार करेंगे। ट्रंप नई दिल्ली के अलावा अहमदाबाद भी जाएंगे, जहां वह हाल ही में बने स्टेडियम में मोदी के साथ आम सभा को संबोधित करेंगे। मगर, इस बीच एक और चीज है, जो ट्रंप की यात्रा को ऐतिहासिक बना सकती है। वह है भारत की उस अमेरिकी ड्रोन में दिलचस्पी, जिससे उसने ईरान के सैन्य कमांडर कासिम सुलेमानी को मार गिराया था।

ट्रंप की भारत यात्रा के दौरान उस ड्रोन टेक्नोलॉजी को खरीदने के लिए भारत के साथ अमेरिकी करार हो सकता है। सरकारी सूत्र ने कहा कि हम अमेरिका द्वारा हमले में इस्तेमाल की गई तकनीक खरीदना चाहेंगे क्योंकि ड्रोन ने सफाई से प्रवेश कर अपनी मिसाइल से ईरान के सैन्य कमांडर पर सटीक निशाना साधा था।

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की यात्रा से पहले एक शीर्ष सरकारी सूत्र ने यह जानकारी दी। बताते चलें कि तीन जनवरी को बगदाद में अमेरिकी सैनिकों ने ड्रोन हमले में ईरान के सैन्य कमांडर कासिम सुलेमानी को मार गिराया था। सूत्रों ने कहा कि इस तकनीक से पाकिस्तान में छिपे आतंकियों को आसानी से निशाना बनाया जा सकता है।

मुंबई में 26/11 और 14 फरवरी को पुलवामा जैसे खतरनाक आतंकी हमले की साजिश रचाने वाले पाकिस्तान में छिपे हुए हैं। जैश-ए-मुहम्मद प्रमुख मसूद अजहर और लश्कर प्रमुख हाफिज सईद जैसे आतंकी पाकिस्तान में खुलेआम घूम रहे हैं और पाकिस्तान की सेना की शह पर भारत के खिलाफ गतिविधियों को अंजाम दे रहे हैं। इस टेक्नोलॉजी के भारत के पास होने पर उन्हें निशाना बनाया जा सकेगा। अमेरिका के राष्ट्रपति के भारत दौरे के दौरान उस ड्रोन तकनीक को खरीदने का मुद्दा उठ सकता है।

अमेरिका में भारत के नए राजदूत तरणजीत सिंह संधू ने भी राष्ट्रपति ट्रंप की आगामी भारत यात्रा को ऐतिहासिक बताया। उन्होंने कहा कि 10 दिनों के भीतर हम भारत में अमेरिकी राष्ट्रपति की ऐतिहासिक यात्रा के गवाह बनेंगे। यह यात्रा सभी क्षेत्रों में हमारी साझीदारी को मजबूत बनाने में मदद करेगी।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai

fantasy cricket
fantasy cricket