वाशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मीटू अभियान का फिर मजाक उड़ाया है। उन्होंने कहा कि यह 'द पर्सन हू गॉट अवे' का अनुचित इस्तेमाल है।

इस मुहावरे का प्रयोग ऐसे व्यक्ति के लिए किया जाता है जिससे आपने कभी प्यार किया था या आपके करीब रहा और फिर छोड़कर चला गया, लेकिन आप उसे याद करते हैं या अब भी प्यार करते हैं।

मीटू अभियान पिछले साल उस समय शुरू हुआ जब हॉलीवुड के जाने-माने निर्माता हार्वे विंस्टीन पर कई महिलाओं ने यौन शोषण के आरोप लगाए थे।

ट्रंप ने बुधवार को पेंसिल्वेनिया में एक चुनावी रैली में कहा, 'मुझे इस अभियान के खिलाफ इस तरह के मुहावरे के इस्तेमाल में खुद पर नियंत्रण रखना पड़ रहा है।'

इस दौरान उन्होंने मीडिया की ओर इशारा करते हुए कहा कि वह मीडिया को छोड़कर बाकी सबके लिए इस मूल मुहावरे का इस्तेमाल करेंगे। ट्रंप ने इससे पहले गत जुलाई में भी मीटू अभियान का मजाक उड़ाया था।

इस अभियान के तहत ही ट्रंप की ओर से सुप्रीम कोर्ट के लिए नामित किए गए जज ब्रेट कैवनॉघ पर प्रोफेसर क्रिस्टीन ब्लेसी फोर्ड ने यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए थे। ट्रंप ने हाल में फोर्ड का भी मजाक उड़ाया था।

आरोप लगाने वाली महिलाएं पेश करें सबूत : मेलानिया

दुनियाभर में चल रहे मीटू अभियान पर अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप की पत्नी मेलानिया ने बुधवार को कहा कि आरोप लगाने वाली महिलाओं को सुने जाने और समर्थन की जरूरत है। पुरुषों को भी यह मौका मिलना चाहिए। जब ऐसे आरोप लगते हैं तो ठोस सबूत की जरूरत पड़ती है।