वाशिंगटन। आम धूमपान के स्वस्थ विकल्प के तौर पर पेश ई-सिगरेट दवा-प्रतिरोधी और जीवन के लिए खतरनाक बैक्टीरिया के विषैलेपन की वृद्धि में मदद सकती है, जबकि मानव कोशिकाओं की इन सुपरबग को मारने की क्षमता घट सकती है।

वीए सैन डिएगो हेल्थकेयर सिस्टम (वीएएसडीएचएस) और यूनिवर्सिटी ऑफ कैलीफोर्निया के शोधकर्ताओं ने ई-सिगरेट के प्रभाव का जीवित मेथिसिलिन रेजिसटेंट स्टेफिलोकोकस ऑरियस (एमआरएसए) और मानव उपकला कोशिकाओं पर परीक्षण किया। प्रमुख जांचकर्ता लौरा ई क्रोटी एलेक्जेंडर ने बताया कि ई-सिगरेट वेपोर से एमआरएसए के विषैलेपन में वृद्धि देखी गई। हालांकि उन्होंने कहा कि वेपोर सिगरेट की तरह बैक्टीरिया को आक्रमक नहीं बनाती है।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags