बीजिंग। पालतू बिल्ली को बचाने के लिए एक बुजुर्ग महिला ने सारी हदें पार कर दीं। उसने अपने सात साल के नाती को ही पांचवी मंजिल से लटका दिया। बिल्ली से महिला को इस कदर प्यार था कि उसने अपने जिगर के टुकड़े की जान भी मुश्किल में डाल दी। चीन की इस बुजुर्ग महिला ने चौथी मंजिल पर फंसी अपनी पालतू बिल्ली को बचाने के लिए पांचवीं मंजिल से अपने नाती की कमर में रस्सी बांधकर उसे नीचे लटका दिया। लोग उसे ऐसा करने से मना करते रहे बावजूद उसके महिला नहीं मानीं। इस घटना का वीडियो वायरल होने के बाद सोशल मीडिया पर इसकी जमकर आलोचना भी हो रही है।

यह घटना बीते रविवार को दक्षिण पश्चिमी चीन के सिचुआन प्रांत (Sichuan Province) के पेंगान की है। बच्चे की पहचान 7 साल के हाओ हाओ (Hao Hao) के तौर पर हुई है वहीं बुजुर्ग महिला का सरनेम टेंग (Tang) सामने आया है। दिल बैठाने वाले इस वीडियो में बुजुर्ग महिला खुद बच्चे को लटकाते दिखाई दे रही है। वहीं बच्चे द्वारा बिल्ली को एक झोले में डालने के बाद वह उसे ऊपर की ओर खींच रही है।

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो की शुरूआत बुजुर्ग महिला द्वारा बच्चे को रस्सी की मदद से नीचे के फ्लोर पर बनी बालकनी की ओर उतारने से हो रही है। इसके बाद बच्चा पालतू बिल्ली को एक बैग में रख लेता है इसके बाद उसकी दादी उसे ऊपर खींच लेती है। इस दौरान बच्चे का चाचा भी उसे ऊपर खींचने में बुजुर्ग महिला की मदद करता दिखाई देता है।

इस घटना को देख रहे लोग महिला को रोकने की कोशिश करते हुए चिल्लाते भी दिखाई दे रहे हैं, लेकिन वह उनकी बातों को खारिज करते हुए बच्चे को नीचे उतारना जारी रखती है। यह पूरा घटनाक्रम लगभग 10 मिनट तक चलता है। हालांकि गनीमत है कि बच्चे को किसी भी तरह की चोट नहीं आई है। महिला द्वारा अपने ही नाती की जान खतरे में डालने पर सोशल मीडिया पर लोगों का गुस्सा भी सामने आया है।

बुजुर्ग महिला का यह है कहना

इस पूरी घटना को लेकर जहां बुजुर्ग महिला की आलोचना हो रही है वहीं दूसरी ओर उनका कहना है 'ऐसा नहीं है कि मैंने अपने नाती की जान बिल्ली को बचाने के लिए जोखिम में डाली है। मैंने ऐसा इसलिए किया क्योंकि मैं उसकी सुरक्षा को लेकर पूरी तरह से आश्वस्त थी। उस वक्त मुझे नहीं लगा कि यह खतरनाक स्टंट है। हालांकि बाद में इसका वीडियो देखने के बाद मैं डर गई थी।' महिला ने इस पूरे स्टंट को लेकर माफी मांगी है और दोबारा ऐसा ना करने की बात कही है।

Posted By: Neeraj Vyas

fantasy cricket
fantasy cricket