वॉशिंगटन। हमने मार्क जुकरबर्ग को प्रेस इवेंट्स, सीनेट की सुनवाई के दौरान पानी पीते हुए और और लगातार पसीना बहाते हुए देखा है। हाल ही में टेक पत्रकार स्टीवन लेवी द्वारा लिखी गई एक किताब की समीक्षा से पता चला है कि 35 वर्षीय सीईओ ने स्टेज पर जाने से पहले लोगों को अपनी कांख (आर्मपिट) को सुखाने के लिए काम पर रखा है।

जिस किताब में यह लिखा गया है, उसका नाम है 'फेसबुक: द इनसाइड स्टोरी'। हालांकि, अभी इसे दुनियाभर के बाजारों के लिए जारी नहीं किया गया है। पुस्तक में मूल रूप से फेसबुक पर पर्दे के पीछे होने वाली चीजों को उजागर किया गया है। किताब की समीक्षा ब्लूमबर्ग के ऑस्टिन कैर ने लिखी है।

इसमें वह लेवी के लिखे गए एक अंश के बारे में बता रहे हैं। उन्होंने समीक्षा में लिखा- "वह भी अपनी सार्वजनिक छवि को लेकर सजग हो गए हैं। एक कार्यक्रम में बोलने से पहले चिंता की वजह से पसीने से तर-बतर हो रहे सीईओ की बगलें सुखाते हुए एक कम्युनिकेशन एक्जीक्यूटिव को देखा गया।

निश्चित रूप से ट्विटर पर कुछ लोग इसे मनोरंजक किस्म का काम मान रहे हैं, तो कुछ लोगों का कहना है कि यह भयावाह है। ट्विटर के सीईओ जैक डोर्सी ने भी इस बारे में ट्वीट किया। हालांकि, यह देखना अजीब है कि जकरबर्ग ने वास्तव में किसी को अपनी बगलें सुखाने के लिए नियुक्त किया है।

मगर, फेसबुक की प्रवक्ता लिज बुर्जुआ को यह पूरी तरह सच नहीं लगता। उन्होंने बिजनेस इनसाइडर के जवाब में कहा कि मुझे संदेह है कि यह सच है और यदि ऐसा है तो यह हमारी संचार टीम के अनुरोध पर हुआ होगा। मगर, निश्चित रूप से जिसने भी कभी ग्रे टी-शर्ट पहनी है, वह खुद को इस स्थिति से जोड़ सकता है।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai