अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के फ्लोरिडा स्थित मार-ए-लागो रिसॉर्ट-क्लब पर देश की खुफिया एजेंसी फेडरल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (एफबीआई) ने छापा मारा है। खुद ट्रम्प ने इसकी जानकारी दी और इसे गैर जरूरी बताया। ट्रम्प ने अपने ट्वीट में लिखा, एफबीआई एजेंटों ने रिसॉर्ट पर छापा मारा और एक तिजोरी को तोड़ा। कहा जा रहा है कि रेड ट्रम्प द्वारा राष्ट्रपति के आधिकारिक रिकॉर्ड को गायब करने में अमेरिकी न्याय विभाग की जांच के बीच यह एक कड़ी हो सकती है। हालांकि, मियामी में एफबीआई के मुख्यालय और इसके क्षेत्रीय कार्यालय दोनों ने टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।

क्या यह है ट्रम्प पर एफबीआई के छापे की वजह

बता दें डोनाल्ड ट्रम्प के राष्ट्रपति पद के आखिरी दिन काफी नाटकीय रहे थे। स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, खोज उस सामग्री पर केंद्रित हो सकती है जिसे ट्रम्प अपने निजी क्लब और निवासी मार-ए-लागो पर व्हाइट हाउस छोड़ते वक्त लाए थे। ट्रम्प जो बॉक्स लाए थे उनमें राष्ट्रपति से जुड़े कई अहम दस्तावेज हो सकते हैं।

पहले भी FBI के निशाने पर रह चुके हैं ट्रम्प

ट्रम्प पहले भी एफबीआई के निशाने पर रह चुके हैं। 2019 में एफबीआई ने जांच की कि क्या ट्रम्प रूस के लिए काम कर रहे थे। मई 2017 में जब ट्रम्प राष्ट्रपति थे, तब संघीय जांच ब्यूरो (FBI) के तत्कालीन प्रमुख जेम्स बी. कोमी को अचानक कार्यालय से हटा दिया गया था। वे राष्ट्रपति पद के लिए ट्रम्प के अभियान में रूसी सरकार के कथित हस्तक्षेप की जांच कर रहे थे।

बता दें कि 2021 में 6 जनवरी को डोनाल्ड ट्रम्प के समर्थकों ने चुनाव हारने के बाद यूएस कैपिटल हिल पर हमला बोल दिया था। इसे 1812 के युद्ध के बाद से अमेरिकी संसद पर सबसे बड़ा हमला कहा गया। दंगों के आरोप में 50 राज्यों में 725 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया गया था। इसके बाद ट्रम्प कह चुके हैं कि वे 2024 में फिर राष्ट्रपति चुनाव लड़ना चाहते हैं।

Posted By: Arvind Dubey

  • Font Size
  • Close