पेरिस। अमेरिका में 11 सितंबर (9/11) को आतंकी संगठन अल-कायदा के आतंकियों ने जिस तरह प्लेन को हाईजैक कर वर्ल्ड ट्रेड सेंटर से टकराकर भारी तबाही मचाई थी। उसी तरह से फ्रांस को भी दहलाने की साजिश थी, लेकिन खुफिया अधिकारियों की मुस्तैदी की वजह से न सिर्फ हमले को नाकाम कर दिया गया, बल्कि संदिग्ध को भी गिरफ्तार कर लिया गया है। यह जानकारी फ्रांस के गृह मंत्री क्रिस्टोफी कैस्टेनर ने दी। उन्होंने फ्रेंच टीवी चैनल को बताया कि खुफिया अधिकारियों ने पिछले महीने एक संदिग्ध को गिरफ्तार किया है, जो न्यूयॉर्क में सितंबर 2001 में वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर किए गए हमलों से प्रेरित था।

उन्होंने कहा कि संदिग्ध ने यूरोप में एक विमान को हाईजैक करने की योजना बनाई थी। रशिया टुडे की रिपोर्ट के अनुसार, मंत्री ने इस संबंध में कोई और जानकारी नहीं दी है। पुलिस सूत्रों का हवाला देते हुए, फ्रांसीसी मीडिया ने बताया है कि संदिग्ध की उम्र 30 साल से कम है और वह सेंट्रल पेरिस के पश्चिम में रहता था। रिपोर्टों के अनुसार, वह कथिततौर पर किसी दूसरे यूरोपियन यूनियन देश में हमले को अंजाम देने पर विचार कर रहा था, क्योंकि फ्रांस में निगरानी बहुत अधिक थी।

फ्रांसीसी मंत्री ने कहा कि अधिकारियों ने साल 2013 से अब तक 60 आतंकवादी हमलों को नाकाम किया है। बतात चलें कि 11 सितंबर 2001 को अमेरिका के इतिहास में अब तक का सबसे घातक आतंकवादी हमला हुआ था। आतंकी संगठन अल कायदा ने एक साथ कई विमानों को हाईजैक कर लिया था। इनमें से दो विमानों को वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के दोनों टॉवर पर टकरा दिया गया था, जिससे 2,753 लोगों की मौत हो गई थी।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai