अश्वेत नागरिक George Floyd की मौत के बाद पूरे अमेरिका में बवाल मचा हुआ है। हर जगह अराजकता ही अराजकता दिख रही है। प्रदर्शनकारी मॉल से लेकर बाजारों तक में तोड़-फोड़ और लूट कर रहे हैं। पुलिस सैकड़ों लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है और एक समय तो यह स्थिति आ गई थी कि व्हाइट हाउस के बाहर प्रदर्शनकारियों के जमा होने के बाद राष्ट्रपति ट्रंप को सुरक्षित बंकर में ले जाना पड़ा था। अब पता चला है कि उसी जॉर्ज फ्लॉयड को अप्रैल में कोरोना हुआ था।

द न्यूयॉर्क टाइम्स (NYT) की एक रिपोर्ट में हेनेपिन काउंटी मेडिकल परीक्षक द्वारा जारी पूर्ण शव परीक्षा का हवाला दिया गया और कहा गया कि 46 वर्षीय फ्लॉयड को 3 अप्रैल को कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया था।एनवाईटी की रिपोर्ट में कहा गया है कि काउंटी के शीर्ष चिकित्सा परीक्षक एंड्रयू बेकर ने कहा कि मिनिसोटा स्वास्थ्य विभाग ने फ्लॉयड की मौत के बाद उसकी नाक से नमूना लिया था और पाया गया कि वह कोरोना संक्रमित था।

उनकी मृत्यु के समय कोरोना संक्रमित पाया जाना हो सकता है कि इस वजह से था कि वह पिछले संक्रमण के बाद से स्थायी रूप से संक्रमित ही रहा हो। रिपोर्ट में कहा गया है कि इस बात का कोई संकेत नहीं है कि वायरस की वजह से उनकी मौत हुई है। न्यूयॉर्क और अमेरिका भर में विरोध प्रदर्शन तेज हो गया क्योंकि फ्लॉयड के मारे जाने के बाद हजारों प्रदर्शनकारी पुलिस की बर्बरता को खत्म करने की मांग करते हुए सड़कों पर उतर आए हैं।

एक श्वेत पुलिस अधिकारी ने लगभग आठ मिनट तक उसकी गर्दन पर घुटने रखकर उसे बेदम कर दिया था। हालांकि, फ्लॉयड के हाथ में हथकड़ी लगी थी और उसे उसे जमीन पर लिटा दिया गया था। वह 25 मई की उस घटना में कह रहा था कि मैं सांस नहीं ले पा रहा हूं। जॉर्ज फ्लॉयड के अंतिम शब्द थे- कृपया, मैं सांस नहीं ले सकता। पुलिस की क्रूरता के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे प्रदर्शनकारियों के लिए यह एक स्पष्ट आह्वान बन गया है।

इस घटना के बाद मामले में श्वेत अधिकारी डेरेक चाउविन को गिरफ्तार कर लिया गया तथा उस पर शुक्रवार को थर्ड डिग्री हत्या और मानव वध का आरोप लगाया गया। यदि वह हत्या के दोषी ठहराए जाते हैं, तो उन्हें 12 साल से अधिक जेल की सजा भुगतनी पड़ सकती है। मामले में चाउविन के साथ घटनास्थल पर मौजूद तीन अन्य अधिकारियों को भी बर्खास्त कर दिया गया।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना