India relaxed Rules for UK Nationals: भारत सरकार ने यूके से आने वाले यात्रियों की अतरिक्त जांच और पाबंदियों से जुड़े कोविड-19 संबंधी ट्रैवल एडवाइजरी को वापस ले लिया है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा है कि 1 अक्टूबर 2021 को भारत आने वाले यूके के नागरिकों के लिए संशोधित दिशानिर्देश वापस ले लिए गए हैं और अब यूके से भारत आने वालों के लिए 17 फरवरी, 2021 के समय के दिशानिर्देश लागू होंगे। भारत ने ये फैसला ब्रिटेन के उस संशोधित फैसले के बाद लिया है, जिसके मुताबिक कोविशील्ड वैक्सीन की दोनों डोज ले चुके भारतीयों को इंग्लैंड पहुंचने पर क्वारंटीन में रहने की जरूरत नहीं होगी। इसके अलावा 11 अक्टूबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और ब्रिटेन के पीएम बोरिश जॉनसन की फोन पर बात हुई थी। इस दौरान दोनों नेताओं ने कोरोना वायरस के खिलाफ साझा लड़ाई पर चर्चा की थी।

इससे पहले स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी दिशानिर्देश में कहा गया था कि भारत आने वाले यूके के नागरिकों को आगमन के बाद दस दिनों के लिए घर पर या दिए गए गंतव्य के पते पर अनिवार्य रूप से क्वारंटीन होना होगा। इसके साथ ही ब्रिटेन से आने वाले सभी यात्रियों की एयरपोर्ट पर आरटी-पीसीआर टेस्ट और भारत में आने के आठ दिनों के बाद दोबारा RT-PCR टेस्ट कराने की बात की गई थी।

दरअसल पहले ब्रिटिश सरकार ने भारतीय नागरिकों के लिए इंग्लैंड पहुंचने पर ऐसे ही नियम बनाये थे। इसमें कहा गया था कि भारत सहित कुछ और देशों से यात्रा करके ब्रिटेन पहुंचने वाले व्यक्ति को 10 दिन क्वारंटीन रहना होगा और कोविड टेस्ट भी कराना होगा। इतना ही नहीं, जो लोग वैक्सीन की दोनों डोज ले चुके हैं, उन्हें भी अनिवार्य तौर पर क्वारंटीन में रहना होगा। इस नियम पर भारत ने कड़ी आपत्ति जताई थी और कहा था कि यह भेदभावपूर्ण वाला नियम है। जब भारत सरकार के ऐतराज के बावजूद ब्रिटिश सरकार ने कदम पीछे नहीं हटाये, तो भारत ने भी 1 अक्टूबर से ब्रिटिश नागरिकों के लिए वैसे ही नियमों वाली एडवाइजरी जारी कर दी। उसके बाद ब्रिटिश सरकार को झुकना पड़ा और उन्होंने कोविशील्ड के दोनों डोज ले चुके लोगों को क्वारंटीन और टेस्ट आदि से छूट दे दी। अब भारत सरकार ने भी कोविशील्ड ले चुके ब्रिटिश नागरिकों के लिए टेस्ट और क्वारंटीन की बाध्यता समाप्त कर दी।

Posted By: Shailendra Kumar