बधिरता यानी सुनने की क्षमता कम या खत्म हो जाना बड़ी उम्र में कई शारीरिक और मानसिक समस्याओं का कारण बन सकती है। जापान की यूनिवर्सिटी ऑफ सुकुबा के शोधकर्ताओं ने बड़ी उम्र के लोगों में बधिरता और अन्य बीमारियों के बीच संबंध को लेकर अध्ययन किया है। इसमें 1,37,723 लोगों से जुड़े आंकड़ों का विश्लेषण किया गया।

वैज्ञानिकों का कहना है कि बधिरता के 90 प्रतिशत से ज्यादा मामले उम्र से संबंधित होते हैं, इसलिए इनके कारण होने वाली अन्य परेशानियों का शिकार भी बड़ी उम्र के लोग ही ज्यादा होते हैं। सुनने की शक्ति का सीधा संबंध बोलने से होता है। ऐसे में बधिरता के कारण व्यक्ति को बोलने में भी परेशानी का सामना करना पड़ता है। इस कारण से व्यक्ति अतिरिक्त तनाव में रहता है। इन परेशानियों का संबंध डिमेंशिया (याददाश्त खो जाना) से भी पाया गया है।

Posted By: Arvind Dubey

  • Font Size
  • Close