हांगकांग। हांगकांग की नेता कैरी लाम ने मंगलवार को कहा कि प्रस्तावित प्रत्यर्पण कानून से संबंधित बिल निरस्त हो गया है। हांगकांग में पिछले कुछ दिनों से प्रस्तावित प्रत्यर्पण कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं।

इस मामले में उन्होंने यह भी कहा कि प्रस्तावित कानून को लेकर सरकार के सभी फैसले असफल रहे हैं। लेकिन लाम के आलोचक और प्रदर्शनकारी उनकी इस बात से आश्वस्त नहीं हैं। वह अब भी बिल को वापस लिए जाने की मांग पर अड़े हैं। उनका कहना है कि लाम लोगों को अपने शब्दजाल में उलझा रही हैं। इस बिल में संदिग्धों और अपराधियों को मुकदमे के लिए चीन में प्रत्यर्पित किए जाने का प्रावधान किया गयाहै।

कई लोग इस बिल को हांगकांग की स्वायत्ता और यहां के नागरिकों के अधिकारों पर खतरा बता चुके हैं। बीते जून में लाखों लोग इस बिल के विरोध में सड़कों पर उतर आए थे। इसके दबाव में लाम को बिल निलंबित करना पड़ा था। इसके बाद भी विरोध प्रदर्शन का सिलसिला रुका नहीं है। प्रदर्शनकारी कानून को रद्द करने की मांग पर अड़े हुए हैं। विरोध शांत कराने के लिए मंगलवार को पत्रकारों से बातचीत में लाम ने कहा, 'लोगों के मन में अब भी यह आशंका है कि सरकार प्रत्यर्पण कानून पास कराने के लिए विधायी परिषद में फिर से प्रक्रिया शुरू करेगी।

इसी के चलते मैं फिर दोहरा रहीं हूं कि सरकार की ऐसी कोई योजना नहीं है। बिल निरस्त हो चुका है।' लेकिन प्रदर्शनकारी छात्रों ने लाम की बात पर भरोसा करने से इन्कार कर दिया है। चाइनीज यूनिवर्सिटी ऑफ हांगकांग के छात्र संघ के नेता चान वाई लाम विलियम ने कहा, 'बिल को पूरी तरह वापस लिए जाने के अलावा हमें किसी भी बात से संतुष्टि नहीं होगी।'