नरेंद्र गोरे (ह्यूस्टन)। अमेरिका के ह्यूस्टन शहर में आयोजित हाउडी मोदी इवेंट में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने भी हिस्सा लिया। ट्रम्प ने अपनी स्पीच में भारत और अमेरिका के संबंधों की जरूरत पर जोर दिया। ट्रम्प ने सुरक्षा और आतंकवाद की रोकथाम पर भी दोनों देशों के साझा प्रयासों की बात कही।

ट्रम्प ने जैसे ही इस्लामिक आतंकवाद का जिक्र किया, वहां मौजूद 50 हजार लोगों ने खड़े होकर ताली बताई और समर्थन किया। यही नहीं, मंच से नीचे मौजूद पीएम मोदी और विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने भी खड़े होकर राष्ट्रपति की इस बात का स्वागत किया।

ट्रम्प ने हालांकि किसी देश के नाम नहीं लिया, लेकिन माना जा रहा है कि उनका इशारा पाकिस्तान की ओर था। बता दें, ट्रम्प का यह बयान पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से मुलाकात से चंद घंटे पहले आया है। संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) की बैठक में हिस्सा लेने के लिए इमरान खान भी अमेरिका आए हैं, जहां सोमवार को ट्रम्प से उनकी मुलाकात होना है।

मोदी ने भी पाकिस्तान का नाम लिए बगैर साधा निशाना

पीएम मोदी ने भी अपनी स्पीच के दौरान पाकिस्तान का नाम लिए बगैर निशाना साधा। मोदी ने आर्टिकल 370 के मुद्दे पर कहा कि भारत अपने यहां कुछ कदम उठाता है तो कुछ लोगों को तकलीफ होने लगती है, जिनसे अपना देश नहीं संभल रहा है।

बकौल मोदी, भारत और अमेरिका को आतंकवाद से समानखतरा है। 9/11 का अटैक हो या 26/11 के मुंबई हमले, पूरी दुनिया जानती है कि आतंकवादी कहां पाले जाते हैं। आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में अब निर्णायक फैसला लेने का वक्त आ गया है।