ह्यूस्टन से नरेंद्र गोरे

रविवार को देश व दुनिया के हजारों लोगों ने ट्रंप और मोदी की जुगलबंदी देखी। हाउडी मोदी कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए PM नरेंद्र मोदी और अमेरिका के राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप NRG स्टेडियम पहुंचे। उन्‍होंने और हाथ मिलाकर दर्शकों का अभिवादन स्‍वीकार किया।

स्‍थानीय समयानुसार भारतीयों की भीड़ सुबह से जुटने लगी थी। अलग-अलग तरह वेशभूषा पहनकर लोग यहां पहुंचे। प्रोग्राम में हिस्सा लेने पहुंच रहे लोगों का कहना है कि वह मोदी को देखने और सुनने को लेकर काफी उत्साहित है।

मोदी के इस इवेंट से NRI को बड़ी उम्मीद थी। उनका कहना है कि दुनिया के बड़े देशों के बीच कहीं तनाव है तो कही अस्थिरता का वातावरण है।

मंच पर पीएम मोदी ने ऐसे किया लोगों को अभिवादन

ब्रिटेन में बैक्जिट है तो अमेरिका-चीन के संबंध बिगड़ गए हैं। ऐसे में यदि भारत और अमेरिका के बीच संबंध मजबूत होते हैं तो इसका भारत को बहुत फायदा होगा।

भारत के पास महाशक्ति बनने का बड़ा मौका है। कार्यक्रम के शुरू में दो मिनट का मौन रखा गया और पिछले दिनों बाढ़ में जान गंवाने वाले 6 लोगों को श्रद्धांजलि दी गई।

खचाखच भर गया एनआरजी स्टेडियम, देखिए मंच का वीडियो

अब तो बस पीएम मोदी का इंतजार

हाउडी मोदी इवेंट पर पूरे अमेरिका की नजर, कई सीनेटर मौजूद

हाउडी मोदी इवेंट से अमेरिका को भी बहुत उम्मीद है। सभी की नजर इस पर थी कि यहां पीएम मोदी क्या बोलते हैं। यही कारण है कि बड़ी संख्या में अमेरिकी सीनेटर पीएम मोदी को सुनने आए। वे अमेरिका के साथ ट्रेड डील को लेकर मोदी की राय जानना चाहते थे।

'हाउडी मोदी' के मंच पर योग, देखिए वीडियो

अमेरिकी कलाकारों ने कथक और भारतीय नृत्य प्रस्‍तुत किया

ट्रंप के ट्वीट पर मोदी ने दिया जवाब, कहा आपसे मिलने की उम्‍मीद

हाउडी, मोदी इवेंट के लिए डोनाल्‍ड ट्रंप ने ह्यूस्‍टन के लिए रवाना होने से पहले ट्वीट करके कहा कि, मैं अपने दोस्‍त के साथ ह्यूस्‍टन में रहूंगा। यह टैक्‍सस में एक बेहतर दिन होगा। इस पर पीएम मोदी ने जवाब देते हुए ट्वीट किया कि, यह निश्चित रूप से एक महान दिन होगा! बहुत जल्द आपसे मिलने की उम्मीद है।

सुरक्षा ऐसी कि पानी बोतल पर ढक्कन तक नहीं

होउडी मोदी इवेंट में सुरक्षा का स्तर क्या है, अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि किसी को पानी की बोतल अंदर ले जाने की अनुमति नहीं है। इवेंट में शामिल होने वालों को अंदर ही पानी की बोतल दी गई हैं, जिनके ढक्कन भी निकलवा दिए गए हैं।

लोगों का यह भी कहना है कि अब तक अमेरिकी प्रशासन एनआरआई पर उतना ध्यान नहीं देता था, लेकिन मोदी के पीएम बनने के बाद स्थिति बदली है।

बेमिसाल है मोदी-ट्रम्प की जोड़ी

अमेरिका में बंगाली अखबार Sanghbad Bichitra के संपादक 76 वर्षीय दिलीप चक्रवर्ती कहते हैं, 'मोदी के पास क्लीयर मैसेज और क्लीयर विजन है। वहीं ट्रम्प मैन ऑफ एक्शन हैं। यही कारण है कि दोनों से बहुत उम्मीद है।' दिलीप चक्रवर्ती मोदी के बड़े फैन हैं। वे 2014 में मैडिसन स्केवयर गार्डन में हुए प्रोग्राम में भी मौजद थे और उस इवेंट के ऑर्गनाइजर्स में से एक थे।

इससे पहले पीएम मोदी के ह्यूस्टन दौरे के दौरान ऊर्जा के क्षेत्र में एक बड़े कारोबारी सौदे पर साइन किए गए । भारत ने टेल्यूरियन और पेट्रोनेट के साथ लिक्विफाइड नेचुरल गैस (एलएनजी) के लिए मेमोरैंडम ऑफ अंडरस्टैंडिंग (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए।

यह डील ह्यूस्टन के होटल पोस्ट ओक में ऊर्जा क्षेत्र के सीईओ के साथ बैठक में साइन की गई। सौदे के तहत पांच मिलियन टन एलएनजी के लिए एमओयू साइन किया गया है।

टेल्यूरियन और पेट्रोनेट ने इस सौदे को अंजाम देने के लिए ट्रैन्जैक्शन एग्रीमेंट को मार्च 2020 तक अंतिम रूप देने का लक्ष्य निर्धारित किया है।

रविवार को टेक्सस के सबसे बड़े शहर ह्यूस्टन पहुंचने पर पीएम मोदी का भव्य स्वागत किया गया। जॉर्ज बुश इंटरनैशनल एयरपोर्ट पर उनकी अगवानी भारतीय दूत हर्षवर्धन श्रृंगला, भारत में अमेरिकी दूत केनेथ जस्टर और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने की।

आयोजन को लेकर बच्चे भी काफी उत्साहित थे। हवाई अड्डे और होटल के प्रवेश द्वार पर लोग अपने हाथों में भारत और अमेरिका का झंड़ा ले कर उनके स्वागत में खड़े दिखाई दिए।