सैन फ्रांसिस्को। अपने ही परिवार के चार लोगों की हत्या के आरोपित भारतीय मूल के अमेरिकी इंजीनियर के मामले में कोर्ट के दस्तावेजों से खुलासा हुआ है कि उसने ये हत्याएं एक हफ्ते में की थीं। बताया जा रहा है कि आईटी पेशेवर शंकर नागप्पा हंगुड ने दो हत्याएं प्लेसर काउंटी में 7 अक्टूबर को की थी। पुलिस के हवाले से कोर्ट दस्तावेजों में बताया गया है कि हत्याओं को उसने अपने रोसविले अपार्टमेंट में अंजाम दिया था। इसके अलगे दिन उसी जगह पर उसने एक और हत्या की वारदात को अंजाम दिया था। कोर्ट दस्तावेजों के अनुसार, उसने चौथी हत्या 13 अक्टूबर को सिस्क्यू काउंटी में की।

इसके बाद सोमवार को वह एक शव को अपनी कार में लेकर वह खुद उत्तरी कैलिफोर्निया पुलिस थाने पहुंचा था, जो उसके घर से 200 मील दूर था। वहां उसने पुलिस के सामने स्वीकार किया कि उसने तीन अन्य लोगों की हत्या अपने अपार्टमेंट में की है। सभी पीड़ित आरोपित के परिवार के ही सदस्य है। इस सनसनीखेज मामले में आत्मसमर्पण करने वाले शंकर नागप्पा हंगुड को पुलिस ने तुरंत ही गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस ने बताया कि वह थाने में अपने अपराध को स्वीकार करने के दौरान काफी शांत रहा।

प्लेसर काउंटी कोरोनर्स ऑफिस के एक प्रतिनिधि ने बताया कि वे भारतीय दूतावास के साथ मिलकर परिवार के कानूनी उत्तराधिकारियों से संपर्क करने की कोशिश कर रहे हैं, जो भारत में रहते हैं। अभी तक मृतकों की पहचान उजागर नहीं की गई है। आरोपों के आधार पर यदि शंकर को दोषी ठहराया जाता है, तो उसे मौत की सजा दी जा सकती है। उसके मामले की अगली सुनवाई 25 अक्टूबर को होनी है।

हालांकि, पुलिस ने अभी भी घटना के मकसद के बारे में कोई जानकारी नहीं दी है। मगर, लगता है कि शंकर आर्थिक रूप से परेशान था। कर रिकॉर्ड से पता चला है कि उस पर 1,78,603 डॉलर (लगभग 1.27 करोड़ रुपए) का टैक्स बाकी था। रोजविले पुलिस विभाग के कैप्टन ने बताया कि शंकर को गिरफ्तार कर लिया गया है और पुलिस मामले की छानबीन कर रही है।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai