नई दिल्ली। अपने देश में ही दूसरे राज्यों में फंसे प्रवासियों की बेसब्री को देखते हुए इस बात का अंदाजा लगाना कठिन नहीं होगा कि श्रीलंका में दो महीने से भी ज्यादा समय से फंसे 2,400 से अधिक भारतीय फिलहाल किस हाल में होंगे। वह भी तब जबकि उन्हें यह भी अब तक नहीं बताया गया है कि उनकी स्वदेश वापसी कब तक संभव हो पाएगी। खराब होते आर्थिक हालात, घर से बाहर रहने का दुख और वतन वापसी की अनिश्चितता के बीच ये लोग कोलंबो स्थित भारतीय उच्चायोग के चक्कर काटने को मजबूर हैं।

केंद्र सरकार ने कोरोना संक्रमण और लॉकडाउन की वजह से विदेश में फंसे भारतीयों को वापस लाने के लिए सात मई से "वंदे भारत मिशन" की शुरुआत की है। कई देशों से भारतीयों की स्वदेश वापसी भी कराई जा रही है, लेकिन श्रीलंका के लिए राहत उड़ानों की घोषणा अभी तक नहीं की गई है। नोएडा की रहने वाली इंजीनियर विनीता कोलंबो में लंबे अरसे से फंसी हुई हैं। उन्होंने फोन पर कहा, "मैं दो महीने से कोलंबो में फंसी हुई हूं। मेरे आर्थिक हालत भी अच्छी नहीं है। इस देश में मैं रोजाना जीवन के लिए संघर्ष कर रही हूं। मैंने श्रीलंका में स्थित भारतीय उच्चायोग से संपर्क किया है। वहां से बताया गया कि मुझे वतन वापसी के लिए वंदे भारत मिशन के दूसरे चरण का इंतजार करना होगा।"

विजयपाल सिंह अपनी व्यस्तताओं से फ्री पाकर कुछ समय पत्नी के साथ बिताना चाहते थे, इसलिए वे अपने बच्चों को उनके दादा-दादी के पास छोड़कर छुट्टी मनाने श्रीलंका गए हुए थे। इस बीच लॉकडाउन लागू हो गया और अब उनकी छुट्टी उम्मीद और जरूरत से कुछ ज्यादा ही लंबी होती जा रही है।

गौरतलब है कि "वंदे भारत मिशन" के पहले चरण के तहत सरकार ने खाड़ी देशों, अमेरिका, ब्रिटेन, फिलिपींस, बांग्लादेश, मलेशिया व मालदीव से 6,527 भारतीयों की वापसी सुनिश्चित की है। दूसरे चरण में कनाडा, ओमान, कजाखस्तान, यूक्रेन, फ्रांस, ताजिकिस्तान, सिंगापुर, अमेरिका, सऊदी अरब, इंडोनेशिया, कतर, रूस, किर्गिस्तान, जापान, कुवैत व इटली में फंसे भारतीयों को वापस लाया जाएगा। नीति के तहत विदेश में फंसे उन्हीं भारतीयों को वापस लाया जा रहा है, जिनके पास वाजिब कारण हों। मसलन- गर्भवती, छात्र, बुजुर्ग व अन्य जरूरतमंदों को भारत लाने में प्राथमिकता दी जा रही है।

Posted By: Yogendra Sharma

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags