मुंबई। अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम का बेटा मोईन पिछले साल मौलाना बन गया था। इसके बाद दाऊद के गुर्गे छोटा शकील के 18 साल के बेटे मुबशीर शेख ने भी अध्यात्म का रास्ता अपना लिया है। वह 'हाफिज-ए-कुरान' बन गया है। बताते चलें यह पदवी उसे दी जाती है, जिसे कुरान की सारी आयतें जुबानी याद हों।

दाऊद के गुर्गे छोटा शकील की तीसरी संतान और सबसे छोटे बेटे मुबशीर को कुरान की सभी 6,236 आयतें याद हैं। इसे इस्लाम के किसी भी अनुयायी के लिए एक मील का पत्थर माना जाता है। अब वह कराची के पड़ोस में लोगों को कुरान पढ़ा रहा है और इसका प्रचार कर रहा है।

छोटा शकील की दो बेटियां जोया और अनाम हैं। दोनों कराची में डॉक्टरों से विवाहित हैं। मुबशीर को भी अपने पिता का आतंकवादी गतिविधियों में शामिल रहना पसंद नहीं है, लेकिन वह अब भी अपने पिता बाबू मियां शकील अहमद शेख उर्फ छोटा शकील के साथ रह रहा है।

बताते चलें कि पाकिस्तान में दाऊद के नए ठिकाने और छोटा शकील समेत उनके सहयोगियों की पुष्टि दाऊद के भाई इब्राहिम कास्कर ने की थी। ठाणे पुलिस ने 11 महीने पहले उसे गिरफ्तार किया था। पूछताछ में इब्राहिम ने बताया कि उसका भाई अपने एकमात्र बेटे मोइन के मौलाना बनने के बाद डिप्रेशन में हैं।

मोईन के मौलाना बनने के बाद सवाल उठने लगा है कि डॉन और उसके विशाल साम्राज्य का वारिस कौन होगा? वहीं, छोटा शकील को दाऊद की 'डी कंपनी' का प्रमुख माना जाता है। लिहाजा, वह अपनी कमान किसे देगा, इसे लेकर भी सवाल खड़े होने लगे हैं।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना