Iran Hijab Protest: ईरान में हिजाब के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन 15 शहरों में फैल गया है। तेहरा सहित करीब 12 यूनिवर्सिटी में लड़कियों ने कक्षाओं का बहिष्कार किया। तेहरान में इंटरनेट को बंद कर सोशल मीडिया को ब्लॉक कर दिया गया है। अब तक एक हजार से ज्यादा लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। वहीं प्रदर्शनों के खिलाफ सुरक्षा बलों ने हिंसक कार्रवाई की। इस मामले में 31 नागरिकों की मौत हो गई।

युवाओं ने बनाया ऐप

सरकार के खिलाफ युवाओं ने 'गरशाद' नामक एक मोबाइल ऐप बनाया है। इससे 10 लाख यूजर्स डाउनलोड कर चुके हैं। युवा इसके जरिए सीक्रेट मैसेज भेज रहे हैं। इधर सर्वोच्च धर्मगुरु अयातुल्ला खोमेनेई ने बुधवार को एक सभा को संबोधित किया। उन्होंने हिजाब विरोधी प्रदर्शनों का कोई जिक्र नहीं किया।

वर्कफोर्स में भागीदारी 17 फीसदी

संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट के अनुसार ईरान के करीब 20 हजार लोग हर साल दूसरे देशों में शरण पाने के लिए अर्जी लगाते हैं। इन सभी में सबसे ज्यादा महिलाओं की अर्जी होती है। ईरान की यूनिवर्सिटी में 50% तक औरतों का एनरोलमेंट है। वर्कफोर्स में उनकी भागीदारी सिर्फ 17% है।

हिजाब जलाए और बाल काटे

हिजाब न पहनने के मामले में पुलिस कस्टडी में 22 वर्षीय महसा अमिनी की मौत के बाद महिलाएं सड़कों पर प्रदर्शन के लिए उतर आई हैं। महिलाएं हिजाब में आग लगाकर प्रदर्शन कर रही हैं। मॉरल पुलिसिंग के विरोध में महिलाओं ने अपने बालों को कैंची से काटते हुए सोशल मीडिया पर फोटो शेयर किए।

Posted By: Kushagra Valuskar

  • Font Size
  • Close