बगदाद। इस्लामिक स्टेट (आईएस) के आतंकियों की बर्बरता के और मामले सामने आए हैं। इराक में आतंकियों ने यौन संबंध बनाने से मना करने पर 19 महिलाओं की हत्या कर दी। इसके अलावा आईएस आतंकियों ने लीबिया में अपहृत जज को मार डाला। उधर सीरिया में आतंकी संगठन ने एक प्रमुख शहर पर कब्जा जमा लिया।

इराकी न्यूज के मुताबिक, महिलाओं ने आईएस के 'यौन जिहाद' में शामिल होने से मना कर दिया था। इसलिए पिछले दो दिनों में उनकी हत्या कर दी गई। इन महिलाओं को आईएस के गढ़ मोसुल में बंधक बना कर रखा गया था। कुर्दिश डेमोक्रेटिक पार्टी के प्रवक्ता के हवाले से यह जानकारी दी गई। अभी यह पता नहीं चल पाया है कि मारी गईं ये 19 महिलाएं याजीदी थीं या कोई और। आईएस ने पिछले साल उत्तरी इराक के सिनजार जिले पर कब्जा करने के बाद याजीदी समुदाय की सैकड़ों महिलाओं को बंधक बना लिया था।

इस बीच संयुक्त राष्ट्र की दूत जैनाब बांगुरा ने बताया कि आतंकी अपहृत याजीदी और ईसाई महिलाओं तथा बच्चों को बेच देते हैं। एक लड़की को छह विभिन्न लोगों को बेच दिया जाता है। बांगुरा आईएस द्वारा महिलाओं के यौन उत्पीड़न की जांच कर रही हैं। आईएस के चंगुल से भागीं कुछ महिलाओं ने बताया कि आतंकियों के साथ शादी के लिए मजबूर किया जाता है। वे महिलाओं के साथ दुषकर्म करते हैं और शारीरिक प्रताड़ना देते हैं।

अपहृत जज की हत्या की

आईएस के आतंकियों ने लीबिया में एक जज की हत्या कर दी। एक सप्ताह पहले सिर्ते शहर में उनका अपहरण कर लिया गया था। न्यूज एजेंसी शिन्हुआ के मुताबिक, जज मोहम्मद अल नामली का शव मंगलवार को अल हारावा शहर के नजदीक पाया गया। उनके शव पर यातना दिए जाने के चिह्न थे। त्रिपोली, बेनगाजी और दरना में जजों समेत न्यायिक अधिकारियों को आतंकियों द्वारा निशाना बनाए जाने की कई घटनाएं हुई हैं।

सीरिया के प्रमुख शहर पर किया कब्जा

आईएस के आतंकियों ने मध्य सीरिया के होम्स प्रांत में एक प्रमुख शहर पर रातभर में कब्जा जमा लिया। इससे पहले आतंकियों की सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल असद के वफादार सुरक्षा बलों के साथ भीषण झड़पें हुई थीं।

ब्रिटेन स्थित सीरियन ऑब्जर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स के अनुसार, आइएस के एक हिंसक समूह ने यह हमला बुधवार सुबह शुरू किया। तीन आत्मघाती बम हमलावरों ने शहर के प्रवेश द्वार पर बने नाकाओं को निशाना बनाया। आईएस आतंकियों ने सीरियाई सुरक्षा बलों और वफादार लड़ाकों के साथ हिंसक झड़पों के बाद होम्स के दक्षिण पूर्वी हिस्से में स्थित अल-कारयातेन शहर पर कब्जा कर लिया। इस दौरान सीरिया के कुल 37 सैनिक और वफादार लड़ाके मारे गए जबकि आईएस के 23 आतंकी भी मारे गए।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags