Imran Khan इस्लामाबाद। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान का एक अजीबोगरीब बयान इन दिनों चर्चा में है। इमरान खान ने कहा है कि कि चोरों को सत्ता सौंपने से अच्छा होता कि परमाणु बम गिरा दिया जाता। द न्यूज इंटरनेशनल के अनुसार इमरान खान ने शुक्रवार को अपने बनिगला आवास पर पत्रकारों से बातचीत के दौरान यह बात कही है और अब उनका यह बयान पाकिस्तानी मीडिया में चर्चा में आ गया है। पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के अध्यक्ष इमरान खान ने कहा कि देश पर चोरों के थोपे जाने से वह स्तब्ध हैं। इन लोगों को सत्ता सौंपने से अच्छा होता कि देश पर परमाणु बम गिरा दिया जाता।

द न्यूज इंटरनेशनल के मुताबिक इमरान खान ने कहा कि सत्ता में आए चोरों ने हर संस्था और न्यायिक व्यवस्था को तबाह कर दिया, अब पूछिए कि इन अपराधियों के मामलों की जांच कौन सा सरकारी अधिकारी करेगा। वहीं इमरान खान के इस बयान पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहबाज शरीफ ने कहा है कि इमरान खान अपने भाषणों से सरकारी संस्थानों को निशाना बनाकर पाकिस्तान के लोगों के दिमाग में जहर भर रहे हैं।

नई सरकार के गठन के बाद नेशनल असेंबली के पहले नियमित सत्र के दौरान पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने कहा कि कि राष्ट्र को विभाजित किया गया है क्योंकि इमरान खान द्वारा बार-बार (तत्कालीन विपक्ष और अब सरकार) चोर और डकैत बताया गया। इमरान खान ने शहबाज शरीफ की सरकार को चेतावनी दी थी कि 20 मई को होने वाले लंबे मार्च के दौरान उन्हें संघीय राजधानी में प्रवेश करने से कोई ताकत नहीं रोक सकती।

इमरान खान ने पाकिस्तान मुस्लिम लीग नवाज (पीएमएल-एन) के नेतृत्व वाली संघीय सरकार को चेतावनी दी कि वास्तविक स्वतंत्रता प्राप्त करने और आयातित सरकार के खिलाफ विरोध करने के लिए 2 मिलियन से अधिक लोग इस्लामाबाद पहुंचेंगे। इमरान खान ने कहा कि सरकार की ओर से बाधाएं पैदा करने के लिए चाहे जितने भी कंटेनर रखे गए हों, 20 लाख लोग इस्लामाबाद आएंगे। इमरान ने कहा कि विपक्षी दल कहते हैं कि तापमान ज्यादा होगा तो लोग बाहर नहीं आएंगे, जितने चाहे कंटेनर रख लो, लेकिन 20 लाख लोग इस्लामाबाद आएंगे। पूर्व प्रधान मंत्री ने अपने समर्थकों से कहा कि वर्तमान सरकार में हमारी पार्टी के कार्यकर्ताओं के जुनून से "डर" है और कहा कि 11 दल उन्हें सत्ता से हटाने के लिए एकत्र हुए थे।

Posted By: Sandeep Chourey