ब्रिटेन के राजकुमार प्रिंस एंड्रयू (Prince Andrew) की मुश्किलें बढ़ती जा रही है। कोर्ट ने उनके खिलाफ दायर दुष्कर्म के केस को खारिज करने से मना कर दिया। अब प्रिंस को मुकदमे का सामना करना पड़ेगा। अगर दोषी पाए गए तो सजा भी होगी। न्यूयॉर्क की फेडरल कोर्ट के न्यायाधीश ने कहा कि वर्जीनिया गिफ्रे द्वारा दर्ज किए गए केस को खारिज नहीं कर सकते। एंड्रयू को उसका सामना करना होगा।

एक अंग्रेजी वेबसाइट में प्रकाशित खबर के अनुसार ब्रिटिश शाही परिवार के सदस्य और ड्यूक ऑफ यार्क प्रिंस एंड्रयू की याचिका पर सुनवाई करते हुए जस्टिस लुईस कपलान ने कहा, वर्जीनिया गिफ्रे की शिकायत में कुछ अस्पष्ट नहीं है। उनकी तरफ से दायर केस को खारिज नहीं किया जा सकता। बता दें गिफ्रे ने आरोप लगाया है कि जब वह 17 साल की थीं। तब प्रिंस ने उसका रेप किया था।

पीड़िता ने अगस्त में प्रिंस एंड्रयू पर केस दर्ज कराया था। कहा था कि 2001 में फाइनेंसर जेफरी एपस्टीन की मदद से एंड्रयू ने उनका शोषण किया था। उन्होंने अपनी शिकायत में कहा कि प्रिंस को पता था कि मैं उस वक्त नाबालिग थीं। प्रिंस ने वर्जिन आइलैंड्स में निजी द्वीप, मैनहट्टन में अपनी हवेली और लंदन में पूर्व गर्लफ्रेंड के घर मेरे साथ दुष्कर्म किया था।

बता दें यौन शोषण के लिए महिलाओं की तस्करी के आरोपी 66 वर्षीय एपस्टीन ने 2019 में सुसाइड कर लिया था। प्रिंस एंड्रयू ने सभी आरोपों को गलत बताया। वह कोर्ट से केस खारिज करने की अपील की। उन्होंने अपनी याचिका में कहा कि आरोप लगाने वाली महिला के केस को खारिज किया जा सकता है, क्योंकि अब वह यूएस में नहीं रहती।

Posted By: Sandeep Chourey