लंदन। ब्रिटेन की एक अदालत ने करोड़ों रुपये के PNB Fraud Case के आरोपी भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी (48) की न्यायिक हिरासत की अवधि17 अक्टूबर तक बढ़ा दी है।

कोर्ट का कहना है कि कि वह नीरव के प्रत्यर्पण मामले की सुनवाई अगले साल मई में करने की दिशा में काम कर रही है। नीरव रुवार को वैंड्सवर्थ जेल से वीडियो लिंक के जरिये लंदन की वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट में पेश हुआ।

जज डेविड रोबिनसन ने नीरव मोदी से कहा कि मामले में विचार के लिए कोई भी ठोस तथ्य नहीं है और अदालत उसके प्रत्यर्पण मामले की सुनवाई अगले साल 11 मई से 15 मई तक करने की दिशा में काम कर रही है।

संक्षिप्त सुनवाई के दौरान ED और CBI अधिकारियों की एक टीम अदालत में मौजूद थी। मालूम हो कि भारत सरकार द्वारा लगाए गए आरोपों के आधार पर जारी प्रत्यर्पण वारंट पर स्कॉटलैंड यार्ड पुलिस ने मार्च में नीरव मोदी को गिरफ्तार किया था।

इस तरह की संक्षिप्त सुनवाई जरूरी

ब्रिटिश कानून के मुताबिक प्रत्यर्पण के लंबित मामले में हर 28 दिनों में इस तरह की संक्षिप्त सुनवाई जरूरी है। प्रत्यर्पण मामले की सुनवाई से पहले अगले साल फरवरी में मामले के प्रबंधन से संबंधित सुनवाई होने की भी संभावना है।

नीरव के वकील अब तक चार जमानत याचिकाएं दाखिल कर चुके हैं, लेकिन अदालत ने चारों को खारिज कर दिया। अदालत का कहना था कि जमानत देने पर नीरव मोदी के भाग जाने की पूरी संभावना है।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Ram Mandir Bhumi Pujan
Ram Mandir Bhumi Pujan