काबुल। अफगानिस्तान के परवान शहर में आत्मघाती विस्फोट के बाद एक और ब्लास्ट की खबर है। जानकारी के मुताबिक दूसरा धमाका काबुल के मैक्रोरीन 2 क्षेत्र में हुआ। इस दौरान मसूद स्क्वायर और अमेरिकी दूतावास के करीब ब्लास्ट हुआ। इससे पहले पहला धमाका राष्ट्रपति अशरफ गनी की चुनावी रैली को निशाना बनाकर किया गया। इस धमाके में 26 लोगों की मौत हो गई और 42 से अधिक घायल हो गए। इनमें महिलाएं और बच्चे की संख्या ज्यादा है। टोलो न्यूज ने इसकी जानकारी दी है। गनी के एक करीबी ने बताया कि राष्ट्रपति जब धमाका हुआ तो वहीं मौजूद थे, लेकिन वह सही सलामत हैं।

तालिबान विद्रोही समूह ने दो विस्फोटों के लिए जिम्मेदारी का दावा किया। इसके साथ ही कहा गया कि मंगलवार को हुए अफगानिस्तान में हमले के दौरान दर्जनों लोग मारे गए। आत्मघाती हमलों ने अफगान सुरक्षा बलों को लक्षित किया था, यह समूह के प्रवक्ता ने कहा। पुलिस और स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुसार, राजधानी काबुल और मध्य प्रांत के परवन में विस्फोटों में कम से कम 26 लोगों की मौत हो गई और 45 अन्य घायल हो गए। बता दें कि इससे पहले गृह मंत्रालय के एक प्रवक्ता नसरत रहीमी ने कहा था कि परवन विस्फोट एक आत्मघाती हमला था और हमलावर एक मोटरसाइकिल पर सवार था।

जानकारी अनुसार मरने वालों और घायलों की संख्या में और इजाफा हो सकता है। दहशतगर्दों ने गनी की चुनावी रैली को निशाना बनाया ताकि ज्यादा से लोग घायल हो सके। इसका एक कारण 28 सितंबर को होने वाला चुनाव है। ध्यान रहे की आतंकी संगठन तालिबान नहीं चाहता कि देश में चुनाव हो। ऐसे में उसने गनी की रैली को निशाना बनाया है ताकि चुनाव सफल न हो। इससे पहले दो बार चुनाव टल चुका है।