इस्लामाबाद। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) की बंद कमरे की बैठक में कोई कामयाबी नहीं मिलने के बाद पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह मेहमूद कुरैशी ने कहा है कि उनका देश 'नेहरू के हिंदुस्तान' के खिलाफ 'मोदी के हिंदुस्तान' में डोभाल की डॉक्ट्रिन से जूझ रहा है।

प्रधानमंत्री इमरान खान की अगुआई में पाकिस्तान में कश्मीर पर बनाई विशेष कमेटी की पहली बैठक के बाद कमेटी के अध्यक्ष कुरैशी ने इंटरसर्विसेज पब्लिक रिलेशंस के महानिदेशक मेजर जनरल आसिफ गफूर के साथ संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस की। भारत के सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजीत डोभाल का जिक्र करते हुए कुरैशी ने कहा- चूंकि पाकिस्तान भी मानता है कि भारत की नई आक्रामक नीति के निर्माता वही हैं। बकौल कुरैशी, मोदी ने नेहरू के भारत को दफन कर दिया है।

बता दें, मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में भारतीय सेना ने नियंत्रण रेखा (LoC) के पार जाकर सर्जिकल स्ट्राइक की थी। उसके बाद भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के अंदर घुसकर बालाकोट में एयर स्ट्राइक की। और अब मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने परमाणु हमला पहले न करने की बाध्यता खत्म करने का एलान करके पाकिस्तान के परमाणु हमले की धमकियों की हवा ही निकाल दी है।

राजनाथ के बयान की आलोचना : राजनाथ सिंह ने हाल ही में कहा था कि भारत ने परमाणु बम का इस्तेमाल पहले न करने की नीति की समीक्षा की है। अब भविष्य में क्या होगा इसका फैसला परिस्थितियों पर निर्भर करेगा।इस बयान की आलोचना करते हुए विदेश मंत्री कुरैशी ने कहा कि उनका यह बयान गैरजिम्मेदाराना और दुर्भाग्यपूर्ण है।