बीजिंग। पूर्वी चीन में एक तूफान ने भारी तबाही मचाई है। टायफून लेकीमा की वजह से रविवार को मरने वालों की संख्या बढ़कर 44 हो गई थी, वहीं 16 लोग लापता बताए जा रहे हैं। सरकारी ब्रॉडकास्टर सीसीटीवी ने बताया कि तूफान उत्तर की और बढ़ रहा है, जिससे देश में यातायात बाधित हो रहा है।

बताते चलें कि टायफून लेकीमा ने शनिवार तड़के पूर्वी प्रांत झेजियांग में दस्तक दी थी। इस दौरान हवाओं की रफ्तार 187 किमी प्रति घंटे से अधिक थी। इसकी वहज से उड़ानें रद्द हो गईं और रेल ऑपरेशन को भी रोकना पड़ा था।

तटीय शहर वानजाउ के उत्तर में लगभग 130 किलोमीटर दूर झेझियांग में कई मौतें हुईं हैं, जहां तीन घंटे के भीतर 160 मिमी (6.3 इंच) बारिश होने से क्षेत्र में एक प्राकृतिक बांध टूट गया, जिससे भूस्खलन हुआ। आपातकालीन प्रबंधन मंत्रालय ने कहा कि झेजियांग और जिआंगसू प्रांतों व शंघाई के वित्तीय केंद्र में दस लाख से अधिक लोगों को निकाला गया था।

सरकारी मीडिया रिपोर्टों में दिखाया गया कि बचाव दल के लोग कमर तक भरे पानी में उतरकर लगों को उनके घरों से निकालकर सुरक्षित जगहों पर पहुंचा रहे थे। इस साल चीन में लेकीमा के रूप में नौवां तूफान है। माना जा रहा है कि यह दूसरी बार शैंडोंग प्रांत में समुद्र के किनारे टकराएगा, जिससे फ्लाइट कैंसिल होंगी और कुछ एक्सप्रेसवे बंद कर दिए जाएंगे।

समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने रविवार को बताया कि तूफान की वजह से पहले से ही झेजियांग में एक लाख 89 हजार हेक्टेयर फसल और 36,000 घरों को नुकसान पहुंचा है। प्रांतीय अधिकारियों का अनुमान है कि इससे करीब 2.35 अरब डॉलर का आर्थिक नुकसान हुआ है।

शिन्हुआ ने बताया कि शेडोंग शहर में रविवार को भारी बारिश के लिए रेड अलर्ट जारी किया और सभी पर्यटन स्थलों को बंद कर दिया गया है। इसके साथ ही 127 ट्रेनें और सभी लंबी दूरी की बस सेवाओं को भी रोक दिया गया था। सीसीटीवी ने बताया कि शनिवार को 3,200 से अधिक उड़ानों को रद्द कर दिया था, लेकिन रविवार को कुछ हाई-स्पीड रेलवे लाइनों को चालू कर दिया गया था।