वॉशिंगटन। कई घटनाएं ऐसी होती हैं, जिन्हें दुनिया में कोई भी याद नहीं करना चाहता है। उन्हीं में से एक है 11 सितंबर यानी 9/11 को अमेरिका में हुआ आतंकी हमला। मगर, कुछ घटनाएं ऐसी होती हैं, जो अनजाने में ही उससे जुड़ जाती हैं और वे किसी चमत्कार से कम नहीं होती हैं। अमेरिका में 9/11 को एक बच्ची का जन्म रात 9.11 बजे हुआ। मजेदार बात यह है कि उसका वजह भी 9 पौंड 11 औंस था।

जिस दिन दुनिया ने 18 साल पहले हुए आतंकी हमलों को याद किया था, उस दिन टेनेसी के एक अस्पताल में क्रिस्टीना मालोन-ब्राउन का सिजेरियन सेक्शन के जरिए जन्म हुआ था। जब वह पैदा हुई थी तो एक डॉक्टर ने कई बार कहा- ओह माई गुडनेस, मुझे 9/11, 9/11, 9/11 मिली है।

जर्मेनटाउन के मेथोडिस्ट ले बोनेहुर अस्पताल में अन्य चिकित्सा कर्मचारी और नर्स इस अद्भुत संयोग से स्तब्ध थे। ऐसे दुख के समय में क्रिस्टीना एक मिरेकल है। मां ने कहा वह तबाही और बिखराव के बीच एक नया जीवन है।

पिता जस्टिन भूरा ने कहा- हमने डॉक्टर को बच्ची के जन्म के समय की घोषणा करते हुए सुना और फिर जब उन्होंने क्रिस्टीना का वजन किया, तो हमने आश्चर्य की बात सुनी। जब सभी ने देखा कि क्रिस्टीना का वजन 9/11 पौंड, उसके जन्म का समय 9 बजकर 11 मिनट था और वह 9/11 को पैदा हुई थी। यह वास्तव में रोमांचक था। विशेष रूप से ऐसी त्रासदी के एक दिन कुछ खुशी मिलन के लिए।

अस्पताल में वुमन सर्विस की प्रमुख रशेल ने कहा कि यह घटना बेहद दुर्लभ थी। मैंने 35 से अधिक वर्षों तक वुमन्स सर्विस में काम किया है और मैंने कभी नहीं देखा कि किसी बच्चे की जन्मतिथि, जन्म का समय और वजन सभी मेल खाता हो।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना