इस्लामाबाद। Musharraf Treason Case : पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ के खिलाफ देशद्रोह मामले में 17 दिसंबर को फैसला सुनाया जाएगा। एक विशेष अदालत ने गुरुवार को इसकी घोषणा की। इससे पहले इस्लामाबाद उच्च न्यायालय ने विशेष अदालत को 28 नवंबर को फैसला सुनाने से रोक दिया था। बताते चलें कि दुबई में रह रहे मुशर्रफ दुर्लभ बीमारी अमिलॉइडोसिस से पीड़ित हैं, जिसमें प्रोटीन शरीर के अंगों में जमा होने लगता है। इसका इलाज वह दुबई के अस्पताल में करवा रहे हैं, जिसकी तस्वीरें हाल ही में सामने आई थीं।

बताते चलें कि पिछले सप्ताह विशेष अदालत ने 76 वर्षीय मुशर्रफ को देशद्रोह मामले में पांच दिसंबर को बयान दर्ज कराने के लिए कहा था। मुशर्रफ ने तीन नवंबर 2007 को आपातकाल लगाया था, जिसके खिलाफ नवाज शरीफ सरकार ने दिसंबर 2013 में देशद्रोह का मामला दर्ज कराया था। इसके बाद 31 मार्च 2014 को मुशर्रफ को आरोपी करार दिया गया था और सितंबर 2014 में अभियोजन ने सारे साक्ष्य विशेष अदालत के सामने रखे।

अपीलीय मंचों पर याचिकाओं के कारण पूर्व सैन्य शासक के मुदकमे में देरी हुई और वह शीर्ष अदालतों और गृह मंत्रालय की मंजूरी के बाद मार्च 2016 में पाकिस्तान से बाहर चले गए और फिर वापस नहीं लौटे। वह पाकिस्तान में लगातार सुरक्षा कारणों और अपनी जान को खतरा बताते रहे हैं। बताया जा रहा है कि अगर मुशर्रफ को इस मामले में दोषी ठहराया जाता है, तो उन्हें आजीवन कारावास या मौत की सजा दी जा सकती है। मुशर्रफ पाकिस्तान के ऐसे पहले सेना प्रमुख हैं, जिन पर राजद्रोह के आरोप लगे हैं। हालांकि, वह इन आरोपों को राजनीति से प्रेरित बताते हुए कई मौकों पर इन्हें खारिज कर चुके हैं।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai

fantasy cricket
fantasy cricket