All Women Spacewalk: अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा की अंतरिक्ष यात्री क्रिस्टीना कोच और जेसिका मीर ने शुक्रवार को इतिहास रच दिया। दोनों महिला अंतरिक्ष यात्रियों ने अंतरराष्ट्रीय स्पेस सेंटर (ISS) के बाहर चहलकदमी (स्पेसवॉक) की। यह पहला मौका है जब केवल महिला अंतरिक्ष यात्रियों की टीम ने ISS के बाहर स्पेसवॉक की हो। इस सफलता के बाद नासा की ओर से जारी बयान में कहा गया, 'महिला अंतरिक्ष यात्रियों की जोड़ी का यह मिशन मील का पत्थर है। यह इसलिए भी अहम है कि नासा ने 2024 तक पहली महिला को चांद पर भेजने की दिशा में काम शुरू कर दिया है।'

नासा के अनुसार, यह क्रिस्टीना कोच की चौथी स्पेसवॉक रही। वहीं जेसिका मीर पहली बार इस तरह के अभियान में शामिल हुईं। दोनों को इस अभियान के दौरान ISS के खराब पड़े पॉवर कंट्रोलर 'बैट्री चार्ज-डिसचार्ज यूनिट' को चेंज करना था। यह उपकरण 11 अक्टूबर से खराब था, हालांकि इसकी खराबी से स्टेशन में चल रहे रिसर्च या वहां मौजूद अंतरिक्ष यात्रियों की सुरक्षा पर कोई असर नहीं पड़ा। उपकरण को बदलने के लिए दोनों भारतीय समयानुसार शाम 5 बजे ISS से बाहर आईं थीं।

मार्च में ही होना था अभियान

सिर्फ महिलाओं द्वारा अंतरिक्ष में स्पेसवॉक का यह अभियान बीते मार्च में ही होना था। नासा के मुताबिक, क्रिस्टीना कोच के साथ एनी मैकक्लेन उस अभियान का हिस्सा थीं। हालांकि, उपयुक्त स्पेससूट ना होने की वजह से तब इसे टाल दिया गया था।

स्टेशन की मरम्मत के लिए अब तक का 221 वां स्पेसवॉक

ISS और उसमें लगे उपकरणों की मरम्मत के लिए अब तक कुल 221 बार स्पेसवॉक हुई हैं। इस साल 8 बार इसी वजह से अंतरिक्ष यात्रियों ने स्टेशन के बाहर चहलकदमी की थी। इन मिशन में पुरुष अंतरिक्ष यात्रियों के साथ पहले भी कई महिलाओं ने हिस्सा लिया था। अब तक 15 महिलाएं पुरुषों के साथ 42 ऐसी चहलकदमी में शामिल हो चुकी हैं।

Posted By: Arvind Dubey