निजी अंतरिक्ष कंपनी स्पेस एक्स के रॉकेट और कैप्सूल ने आज सुबह अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (ISS) पर अंतरिक्ष यात्रियों को ले जाने के लिए उड़ान भरी। अंतरिक्ष यात्रियों ने अपने कैप्सूल को रेजिलिएंस नाम दिया है। ये अंतरिक्ष यात्री छह महीने ISS पर रहेंगे। इस यान को भारतीय समयानुसार कैनेडी अंतरिक्ष केंद्र से सोमवार सुबह 5:57 बजे रवाना किया गया। 27 घंटे के सफर के बाद यान मंगलवार की सुबह 9:30 बजे ISS पर पहुंचेगा। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने इस मिशन के लिए उसी अंतरिक्ष यान पर भरोसा किया है, जिसे मई में लांच किया गया था। यह अगस्त में दो अंतरिक्ष यात्रियों को लेकर पृथ्वी पर वापस लौट आया था। इस मिशन में चार अंतरिक्ष यात्रियों को भेजा गया है। इसमें नासा से तीन और जापानी अंतरिक्ष एजेंसी जैक्सा से एक यात्री शामिल होगा। नासा ने मई में प्रयोग के तौर पर दो अंतरिक्ष यात्रियों रॉबर्ट बेकन और डगलस हर्ले को अंतरिक्ष में भेजा था। इसका प्रक्षेपण एंडेवर नामक एक कैप्सूल में किया गया था। गौरतलब है कि इससे पहले नासा अपने अंतरिक्ष यात्रियों को अंतरिक्ष स्टेशन तक पहुंचाने के लिए रूसी सोयुज रॉकेटों पर निर्भर रहा है। यह अब महंगा हो गया है। इसके चलते उसे दूसरे विकल्पों पर विचार करना पड़ा है।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस