Nobel Prize 2021 : इस साल अर्थशास्त्र का नोबल पुरस्कार कनाडा के डेविड कार्ड, इजरायली-अमेरिकी जोशुआ एंगरिस्ट और डच-अमेरिकी गुइडो इम्बेन्स को संयुक्त रुप से दिया गया है। इनमें से डेविड को प्राइज का आधा हिस्सा और जोशुआ और गुइडो को संयुक्त तौर पर बाकी का आधा हिस्सा मिलेगा। कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी में इकोनॉमिक्स के प्रोफेसर, डेविड को लेबर इकोनॉमिक्स में उनके योगदान के लिए नोबल प्राइज मिला है। उन्होंने एक्सपेरिमेंट्स का इस्तेमाल कर न्यूनतम वेतन, इमिग्रेशन और एजुकेशन के लेबर मार्केट पर प्रभावों का विश्लेषण किया है। उनके विश्लेषण से पता चला है कि न्यूनतम वेतन बढ़ने से, नौकरियों में कमी आना जरूरी नहीं है। इसके साथ ही यह निष्कर्ष भी सामने आया है कि स्कूलों में संसाधन की मौजूदगी, भविष्य के लेबर मार्केट की सफलता के लिए काफी महत्वपूर्ण होते हैं। वहीं जोशुआ और गुइडो को लेबर मार्केट के बारे में नई जानकारियां उपलब्ध कराने के लिए यह प्रतिष्ठित पुरस्कार दिया गया है।

आपको बता दें कि अन्य नोबल पुरस्कारों की तरह इकोनॉमिक्स के लिए पुरस्कार को अल्फ्रेड नोबल की वसीयत से नहीं दिया जाता। इसे स्वीडन के सेंट्रल बैंक ने 1968 में उनकी याद में शुरू किया था। यह प्रत्येक वर्ष नोबल फरस्कारों की सीरीज में घोषित होने वाला सबसे अंतिम पुरस्कार होता है। इसमें पुरस्कार जीतनेवालों को 11.4 लाख डॉलर की पुरस्कार राशि दी जाएगी।

Posted By: Shailendra Kumar