वाशिंगटन। अमेरिकी खुफिया समुदाय ने कहा कि गुरुवार को यह निष्कर्ष निकाला कि दुनियाभर में तबाही मचाने वाला कोरोना वायरस चीन में पैदा हुआ था। मगर, यह मानव निर्मित या जेनेटकली मॉडिफाइड यानी उसमें कोई इंजीनियरिंग नहीं की गई थी। नेशनल इंटेलिजेंस के निदेशक के कार्यालय ने एक बयान में कहा- संपूर्ण खुफिया समुदाय अमेरिकी नीति निर्माताओं और Covid​​-19 वायरस का जवाब देने वाले लोगों को लगातार महत्वपूर्ण सहायता प्रदान करता रहा है।

खुफिया समुदाय भी व्यापक वैज्ञानिक सहमति से सहमत है कि COVID-19 वायरस मानव-निर्मित या आनुवांशिक रूप से संशोधित नहीं था। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा सोमवार को सुझाव दिए जाने के बाद यह बयान आया कि वह चीन से फैले वायरस की वजह से होने वाले नुकसान की मांग कर सकते हैं।

समाचार रिपोर्ट्स में कहा गया है कि ट्रंप ने वायरस की उत्पत्ति के बारे में अधिक जानकारी हासिल करने का काम अमेरिकी जासूसों को सौंपा है। उन्होंने पहले चीन के शहर वुहान पर आरोप लगाया था कि वहां के वेट मार्केट में चमगादड़ जैसे जानवरों को बेच रहा है, जहां से यह वायरस फैला था। मगर, बाद में कहा कि संभवतः चीन की वायरस अनुसंधान प्रयोगशाला से यह निकला होना चाहिए।

यह सुझाव देते हुए कि बीजिंग बीमारी के बारे में आगे बढ़ कर नहीं बता रहा है, जिसकी वजह से लगभग 32 लाख लोग संक्रमित हो चुके हैं और दो लाख 27,000 से ज्यादा लोग मारे गए हैं। ट्रंप ने सोमवार को कहा कि उन्हें (चीन को) जवाबदेह ठहराने के कई विकल्प थे। उन्होंने कहा कि हम चीन से खुश नहीं हैं। हम उस पूरी स्थिति से खुश नहीं हैं क्योंकि हमारा मानना ​​है कि इसे स्रोत पर रोका जा सकता था। अमेरिकी खुफिया निदेशालय ने कहा कि यह हमेशा राष्ट्रीय सुरक्षा संकट के दौरान अध्ययन और विश्लेषण के लिए संसाधनों को बढ़ाता है।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना