हांगकांग। हांगकांग में अब शिक्षकों ने भी लोकतंत्र के समर्थन में मोर्चा खोल दिया है। प्रदर्शनकारियों का साथ देते हुए शनिवार को हजारों शिक्षकों ने यहां की प्रमुख नेता कैरी लाम के सरकारी आवास तक शांतिपूर्वक मार्च किया। मार्च में शामिल गणित के शिक्षक सीएस चान ने कहा, 'सरकार हमें महीनों से नजरअंदाज कर रही है। हमें प्रदर्शन जारी रखना होगा।' पुलिस के अनुसार रैली में कुल 8,300 शिक्षक शामिल हुए थे।

यह है पूरा मामला

जून में लाखों प्रदर्शनकारियों, खासकर छात्रों ने प्रस्तावित प्रत्यर्पण कानून को लेकर विरोध शुरू किया था। इस कानून में संदिग्धों और अपराधियों को मुकदमे के लिए सीधे चीन प्रत्यर्पित करने का प्रावधान किया गया था। यहां के लोग इस कानून को हांगकांग की स्वायत्तता पर खतरा मानते हैं। इसने लोकतंत्र समर्थक आंदोलन का रूप ले लिया है।

जनजीवन हो रहा प्रभावित

छात्र प्रत्यर्पण कानून को आधिकारिक रूप से वापस लेने के साथ ही लाम के इस्तीफे और लोकतांत्रिक सुधारों की मांग कर रहे हैं। बीते कुछ हफ्तों में प्रदर्शन ने हिंसक रूप ले लिया है। यहां तक कि प्रदर्शन के कारण हवाईअड्डे पर फंसे कई यात्री भी इनकी मांग को सही मान रहे हैं। दूसरी ओर, शिक्षकों का साथ मिलने से प्रदर्शनकारियों का पक्ष और मजबूत हुआ है।

तरीकों से सभी सहमत नहीं

40 वर्षीय संगीत अध्यापक यू ने कहा कि वह प्रदर्शनकारियों के सभी तरीकों से सहमत नहीं हैं, फिर भी उनका समर्थन करते हैं। उन्होंने कहा, 'मैं हांगकांग के प्रति उनके प्यार की सराहना करता हूं। वे सभी हमारी सरकार से अधिक साहसी हैं।'

इनका कहना है

एक अन्य शिक्षक ने कहा कि लाम अगर शुरुआत में ही बात मान लेतीं तो किसी को भी हिंसा का सामना नहीं करना पड़ता। उधर, हांगकांग के उत्तरी हिस्से में सरकार विरोधी प्रदर्शनकारियों ने रैली निकाली। रैली के आयोजक के अनुसार करीब तीन लाख लोगों ने इसमें हिस्सा लिया। रैली के दौरान वहां के निवासियों ने प्रदर्शनकारियों के लिए पानी और नाश्ते का भी इंतजाम किया था।