इस्लामाबाद। पाकिस्तान मे पीएम इमरान खान की मुश्किलें थमने का नाम नहीं ले रही है। बदतर हो रहे आर्थिक हालात के बीच पाक कारोबारियों ने अब इमरान सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। सरकार की खराब आर्थिक नीतियों के खिलाफ कारोबारियों के संगठन ने दो दिन के राष्ट्रव्यापी हड़ताल का आह्वान किया है। यह हड़ताल 29 और 30 अक्टूबर को आयोजित की जाएगी। एक्सप्रेस ट्रिब्यून अखबार के मुताबिक, कारोबारियों के संगठन ऑल पाकिस्तान अंजुमन-ए-ताजरन के केंद्रीय महासचिव नईम मीर ने रविवार को कहा, 'हमारा एजेंडा पीएम इमरान खान को हटाना नहीं है। हम सिर्फ खराब आर्थिक नीतियों में सुधार कराना चाहते हैं। कारोबारी सरकार की बदतर नीतियों और भारी-भरकम टैक्स से मायूस हैं।' महासचिव नईम मीर मीरपुरखास में कारोबारियों एक सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने बताया कि यदि सरकार कारोबारियों को रियायतें दे तो वे सभी बकाया करों का भुगतान करने में दिलचस्पी रखते हैं। मीर ने कहा, 'लेकिन दुर्भाग्य की बात यह है कि सरकार कारोबारियों के फायदे की नीतियां लागू नहीं कर रही है। सरकार की नीतियों से कारोबार और अर्थव्यवस्था को सीधे नुकसान पहुंच रहा है। सरकार यदि हमारी मांगों को मान लेती है तो हम राष्ट्रव्यापी हड़ताल वापस ले सकते हैं।'

गौरतलब है इस समय पाकिस्तान गंभीर आर्थिक हालत से जूझ रहा है। भारी-भरकम कर्ज के चलते उसकी अर्थव्यवस्था रसातल में जा रही है। मित्र देशों से कर्ज मिलने के बावजूद उसके आर्थिक हालात सुधरने के नाम नहीं ले रहे हैं। उधर विपक्ष में खराब आर्थिक हालत के चलते विपक्ष भी इमरान सरकार पर निशाना साध रहा है

Posted By: Yogendra Sharma