संयुक्त राष्ट्र। भारत के एतराज के बावजूद पाकिस्तान वैश्विक मंचों पर कश्मीर मुद्दा उठाने से बाज नहीं आ रहा है। एक बार फिर संयुक्त राष्ट्र में यह मामला उठाते हुए उसने जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों को लागू करने की मांग दोहराई है। दक्षिण एशिया में शांति और स्थिरता के लिए उसने इसे जरूरी बताया है।

संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान की दूत मलीहा लोधी ने कहा कि कश्मीर के लोगों को आत्मनिर्णय का अधिकार मिलना चाहिए। इसके लिए उनके संघर्ष को आतंकवाद के साथ जोड़कर खारिज नहीं किया जा सकता। "आत्मनिर्णय का अधिकार" विषय पर लोधी सोमवार को महासभा की तीसरी कमेटी को संबोधित कर रहीं थी।

उन्होंने सितंबर में महासभा की चर्चा के दौरान पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के बयान का उल्लेख करते हुए दशकों पुराने जम्मू-कश्मीर विवाद का हल कश्मीरी लोगों की इच्छा के मुताबिक करने की मांग रखी। गौरतलब है कि हाल के महीनों में पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र में कई बार यह मामला उठाया है। भारत इसका द्विपक्षीय समाधान चाहता है। संयुक्त राष्ट्र और अमेरिका भी दोनों देशों के अनुरोध के बिना इस मामले में दखल देने से इन्कार कर चुके हैं।

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket