वॉशिंगटन। पाकिस्तान के पूर्व राजनयिक हुसैन हक्कानी ने दुनिया के सामने पाकिस्तानी सेना की पोल खोल कर रख दी है। उन्होंने कहा है कि पाकिस्तान सेना अफगानिस्तान में जानबूझकर आग लगाने वाले अपराधी का काम कर रही है। वहीं, दुनिया के सामने वह ‘फायर ब्रिगेड’ का हिस्सा भी बनना चाहती है।

इसका मतलब है कि अफगानिस्तान में पाकिस्तानी सेना की भूमिका ‘चोर बनना चाहे कोतवाल’ की तरह है। अमेरिका में पाक के पूर्व राजदूत रहे हुसैन हक्कानी की टिप्पणी ऐसे समय में आई है जब अमेरिका की तरफ से अफगानिस्तान मसले पर पाकिस्तान के सहयोग पर संदेह जताया जा रहा है।

इसके साथ ही कई अमेरिकी विशेषज्ञ पाक के सरकारी फैसलों में सेना की भूमिका का खुले तौर पर उल्लेख कर चुके हैं। पूर्व पाक राजनयिक ने कहा कि अमेरिका, चाहता है कि अफगानिस्तान में मजबूत और स्थिर सरकार बने। मगर, तालिबान लगातार इसमें अड़ंगा डाल रहा है।

अमेरिका दे चुका है चेतावनी

इससे पहले अमेरिका ने पाकिस्तान को चेतावनी दी थी कि आतंकी संगठन पाकिस्तान पर कब्जा कर सकते हैं। अमेरिका के विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने चेतावनी देते हुए पाकिस्तान को अपनी जमीन से आतंकवाद को खत्म करने की नसीहत दी गई थी।

टिलरसन ने कहा यदि इस्लामाबाद अपनी जमीन से संचालित होने वाले आतंकी समूहों से अपना रिश्ता खत्म नहीं करता है, तो उसके कुछ भूभाग पर आतंकियों का कब्जा हो सकता है।

अमेरिका के विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने पाकिस्तान को चेतावनी देते हुए कहा है कि अभी आतंकियों का ध्यान काबुल पर है, लेकिन एक दिन ऐसा भी आ सकता है कि इस्लामाबाद उनके लिए बेहतर टारगेट हो सकता है।

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने तमाम आतंकी संगठनों को अपने यहां सुरक्षित जगह दी है। इन संगठनों का आकार और प्रभाव लगातार बढ़ रहा है। एक दिन हो सकता है आतंकियों का ध्यान काबुल से हटे और वे फैसला करलें कि इस्लामाबाद उससे अच्छा टारगेट है।

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket