वॉशिंगटन। अमेरिकी रक्षा विभाग ने शुक्रवार को कहा है कि उसे ऐसी किसी भी जांच की जानकारी नहीं है, जो यह पता करने के लिए की गई है पाकिस्तान का एफ-16 विमान के मार गिराया गया है या नहीं। पेंटागन का यह बयान ऐसे समय में आया है, जब अमेरिकी मैग्जीन फॉरेन पॉलिसी में बिना पहचान के रक्षा अधिकारियों के हवाले से प्रकाशित की गई रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान ने अपना कोई भी एफ-16 लड़ाकू विमान नहीं खोया है।

गुरुवार को फॉरेन पॉलिसी ने खबर प्रकाशित की थी कि पाकिस्तान के पास मौजूद एफ-16 विमानों की अमेरिका ने गिनती की है। इसमें यह पता चला है कि उनमें से एक भी विमान लापता नहीं है। पत्रिका ने अमेरिकी रक्षा विभाग के दो वरिष्ठ अधिकारियों के हवाले से ये बात कही थी, जिनके नाम नहीं दिए गए थे। हालांकि, इस रिपोर्ट के आने के बाद भारत ने खबर का खंडन किया था। अमेरिकी रक्षा विभाग के प्रवक्ता का कहना है कि विभाग को ऐसी किसी भी जांच के बारे में जानकारी नहीं है।

जब विभाग से सवाल पूछा गया कि इस रिपोर्ट को वह खारिज करेंगे या इसकी पुष्टि, तो उन्होंने खुद को इस रिपोर्ट से दूर रखा। विभाग ने कहा कि हम सरकार के दूसरी सरकार के साथ हुए समझौतों के बारे में सार्वजनिक तौर पर कुछ नहीं कह सकते। अमेरिकी सरकार की स्थिति भारत के अनुरूप प्रतीत होती है, जिसने हमले की पृष्ठभूमि में, 'इलेक्ट्रॉनिक सिग्नेचर' को सबूत के रूप में माना और पुष्टि की कि पाकिस्तानी F-16 विमान मार गिराया गया है।

बताते चलें कि 27 फरवरी को भारतीय वायुसेना के साथ हुए हवाई संघर्ष के बाद भारत ने दावा किया था कि उसने पाकिस्तान के एक एफ-16 विमान को मार गिराया था। इसकी पुष्टि करने के लिए भारत ने 28 फरवरी को एफ-16 द्वारा दागी गई एम्राम मिसाइल के टुकड़े भी दुनिया को दिखाए थे, जो सिर्फ एफ-16 विमान में ही फिट हो सकते हैं। इससे जरिये भारत ने दावा किया था कि पाकिस्तान ने भारत के खिलाफ अमेरिका के दिए गए एफ-16 विमान का इस्तेमाल किया था।

दरअल, पुलवामा में 14 फरवरी को सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आत्मघाती हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे। इसके बाद से ही पाकिस्तान को सबक सिखाने की मांग देशभर में उठने लगी थी। इसके बाद भारत ने पाकिस्तान के बालाकोट में चल रहे जैश के आतंकी शिवर को निशाना बनाते हुए 26 फरवरी को सर्जिकल एयर स्ट्राइक की थी। भारत की इस कार्रवाई के बाद पाकिस्तानी वायुसेना ने अगले दिन 27 फरवरी को भारत के सैन्य प्रतिष्ठान को निशाना बनाते हुए हमले करने की नाकाम कोशिश की थी।

भारतीय वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन ने मिग-21 विमान से पाकिस्तानी वायुसेना के लड़कू विमानों को खदेड़ दिया था और इस दौरान उन्होंने एक एफ-16 विमान को मार गिराया था। हालांकि, मुठभेड़ में उनके विमान को भी नुकसान हुआ था और वह पाकिस्तानी इलाके में पहुंच गए थे, जहां पाकिस्तानी सेना ने उन्हें बंधक बना लिया था। मगर, अंतरराष्ट्रीय दबाव और भारत की कूटनीति के आगे पाकिस्तान ने घुटने टेकते हुए अभिनंदन को एक मार्च को रिहा कर दिया था।

Posted By: