9th Planet Found : सौर मंडल का नौवां ग्रह मिल गया है। इंपीरियल कॉलेज लंदन में खगोल भौतिकी के प्रोफेसर माइकल रोवन रॉबिन्सन ने 38 साल पहले इस नौवें ग्रह की उम्मीद जताई थी। अब उनका दावा है कि उन्होंने ग्रह नाइक को ढूंढ लिया है। इसका डेटा 1983 से इन्फ्रारेड एस्ट्रोनॉमिकल सैटेलाइड रीडिंग से लिया गया है, जिसमें माइकल रॉबिन्सन भी हिस्सा थे। उनके दावे का मतलब ये नहीं है कि ग्रह का पता लगा लिया गया, लेकिन यह अंतरिक्ष के उस क्षेत्र को कम करने में मदद करता है, जहां यह पाया जा सकता है। शोधकर्ताओं के मुताबिक प्लैनेट नाइन का अस्तित्व सिद्ध करने के लिए हमें कुछ और वर्षों तक इंतजार करना पड़ सकता है। यदि सिद्ध हो जाता है, तो ग्रह नौ दो शताब्दियों में सूर्य की परिक्रमा करने वाला पहला नया ग्रह होगा।

काल्पनिक ग्रह 9 पिछले कुछ समय से वैज्ञानिकों के बीच चर्चा में है, लेकिन अभी तक किसी ने इस पर ध्यान नहीं दिया। प्लैनेट नाइन के बारे में पहली बारी चर्चा जनवरी 2015 में हुई थी। कैलिफोर्निया इंस्टीट्यूट फॉर टेक्नोलॉजी के दो खगोलविदों ने तब सुझाव दिया था कि एक नेपच्यून के आकार का ग्रह प्लूटो से बहुत दूर एक लंबे रास्ते में सूर्य की परिक्रमा करता है।

रोवन-रॉबिन्सन ने अपने शोध के निष्कर्षों को arXiv में प्रकाशित किया है, जो भौतिक विज्ञान, गणित और कंप्यूटर विज्ञान पर लेखों के लिए एक ओपन-एक्सेस संग्रह है। कैलटेक खगोलविदों ने अपने निष्कर्षों को मॉडलिंग और कंप्यूटर सिमुलेशन पर आधारित किया था न कि अवलोकन पर। इन गणनाओं के अनुसार, प्लैनेट नाइन का द्रव्यमान पृथ्वी के द्रव्यमान का लगभग 10 गुना होगा। यह नेपच्यून की तुलना में सूर्य से लगभग 20 गुना दूर परिक्रमा करेगा, एक सूर्य के चारों ओर एक क्रांति को पूरा करने के लिए 10,000 से 20,000 पृथ्वी वर्ष लेता है।

Posted By: Shailendra Kumar