लंदन। पंजाब नेशनल बैंक को करोड़ों रुपए का चूना लगाने वाले भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी की गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कोर्ट में सुनवाई हुई। वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट अदालत में नीरव के मामले की सुनवाई के लिए तैयारियां पूरी कर ली गई थीं। इसके बाद कोर्ट ने मोदी की रिमांड को 25 जुलाई तक के लिए बढ़ा दिया है।

इस महीने की शुरुआत में नीरव ने ब्रिटेन के हाईकोर्ट में एक बार फिर जमानत की अर्जी लगाई थी, जिसे कोर्ट ने खारिज कर दिया था। इसके बाद अदालत में उसकी पहली बार पेशी होने वाली है। बताते चलें कि 14,000 करोड़ रुपए के पंजाब नेशनल बैंक घोटाले और धनशोधन मामले में नीरव (48) मोदी की मार्च में लंदन में गिरफ्तारी की गई थी। तब से वह दक्षिण-पश्चिमी लंदन की वांड्सवर्थ जेल में बंद है।

इसके पहले वह लंदन में आजादी से घूम रहा था और उसने वहां हीरों का नया बिजनेस भी शुरू कर लिया था। बताते चलें कि अब तक चार बार नीरव की जमानत याचिका खारिज की जा चुकी है। न्यायधीश ने आगे कहा था कि याचिकाकर्ता पर कई देशों में धोखाधड़ी के मामले दर्ज हैं, ऐसे में उसे जमानत देना ठीक नहीं होगा। इस बात के पर्याप्त सबूत हैं कि इस मामले में उसने गवाहों के हस्तक्षेप किए और सबूत नष्ट किए हैं और यह अभी भी हो सकता है।

लंदन के रॉयल कोर्ट्स ऑफ जस्टिस में दिए गए फैसले में जज इंग्रिड सिमलर ने कहा था कि नीरव के पास फरार होने के रास्ते हैं, लिहाजा यह मानने के लिए पर्याप्त आधार हैं कि वह आत्मसमर्पण नहीं करेगा। कोर्ट ने भारतीय अधिकारियों से यह भी पूछा था कि वह नीरव मोदी को किस जेल में रखेंगे। भारतीय अधिकारी नीरव मोदी के प्रत्यर्पण के लिए हर संभव कोशिश कर रहे हैं।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस