अबूधाबी। संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के पहले दौरे पर पहुंचे पोप फ्रांसिस ने मंगलवार को यहां ऐतिहासिक प्रार्थना सभा की। उन्हें सुनने के लिए अबूधाबी का स्टेडियम खचाखच भरा था। इस सभा के बाद वह रोम लौट गए। फ्रांसिस इस्लाम की जन्मस्थली अरब प्रायद्वीप की यात्रा करने वाले पहले पोप हैं।

मुस्लिम बहुल यूएई की राजधानी अबूधाबी के जायद स्पोर्ट्स स्टेडियम में पोप की प्रार्थना सभा में करीब एक लाख 70 हजार कैथोलिक ईसाई शामिल हुए। इसमें कई हजार मुस्लिमों ने भी शिरकत की। पोप फ्रांसिस जब एक खुली सफेद जीप से स्टेडियम में दाखिल हुए तो लोगों ने वेटिकन के सफेद और पीले रंग के झंडे दिखाकर उनका गर्मजोशी के साथ स्वागत किया।

पोप ने कहा, 'यह पक्का यकीन है कि आपके लिए घर से दूर रहना आसान नहीं है। आपको अपने प्रिय लोगों के स्नेह की कमी महसूस हो रही होगी और शायद भविष्य की अनिश्चितता को भी महसूस कर रहे होंगे, लेकिन ईश्वर में भरोसा रखें। वह अपने लोगों का त्याग नहीं करते।'

यूएई में करीब दस लाख कैथोलिक ईसाई रहते हैं। इनमें से ज्यादातर का ताल्लुक फिलीपींस और भारत से है। पोप तीन दिवसीय दौरे पर रविवार को इस खाड़ी देश पहुंचे थे। उनका सोमवार को राष्ट्रपति भवन में शाही स्वागत किया गया था। इसके बाद पोप ने एक धार्मिक सम्मेलन में यमन और सीरिया समेत कई पश्चिमी एशियाई देशों में चल रहे संघर्ष को खत्म करने की अपील की थी।

Posted By: