वॉशिंगटन। ट्रंप के चुनाव प्रचार कार्यक्रमों को कवर करने से ब्लूमबर्ग के पत्रकारों को प्रतिबंधित कर दिया गया है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के 2020 के चुनाव प्रचार अभियान प्रबंधक ब्रैड पार्सेकल ने सोमवार को यह जानकारी देते हुए ब्लूमबर्ग न्यूज पर पक्षपात करने का आरोप लगाया। ब्रैड ने बताया कि यह फैसला तब किया गया है जब ब्लूमबर्ग न्यूज ने पहले ही यह घोषणा कर दी है कि वह कंपनी के बॉस या उनके डेमोक्रेट प्रतिद्वंद्वियों की जांच नहीं करेगा।

ब्रैड ने एक बयान में कहा कि राष्ट्रपति ट्रंप के प्रचार अभियान में शामिल होने की वजह से हमें पक्षपात रिपोर्टिंग देखने की आदत है, लेकिन ज्यादातर समाचार संगठन अपने पूर्वाग्रहों की घोषणा सार्वजनिक तौर पर नहीं करते हैं। उन्होंने कहा कि ट्रंप कैम्पेन में रैलियों और अन्य कैंपेन इवेंट्स में ब्लूमबर्ग न्यूज के प्रतिनिधि विश्वसनीय नहीं होंगे। इसके साथ ही हम यह भी फैसला करेंगे कि ब्लूमबर्ग न्यूज के पत्रकारों के साथ जुड़ना है या उनके सवालों का जवाब देना है।

वहीं, ब्लूमबर्ग न्यूज के मुख्य संपादक जॉन मिकलेथवेट ने इस मामले में अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा- पक्षपात के आरोप सच नहीं हैं। हमने बिना पूर्वाग्रहों के उस समय से ट्रंप के चुनाव प्रचार अभियान को कवर किया था जब वह साल 2015 में राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार बने थे। ट्रंप अभियान के प्रतिबंध लगाए जाने के बाद भी वह अभियान को कवर करेंगे।

समाचार संगठन के कवरेज करने के फैसले पर ब्लूमबर्ग के "मिनी माइक" को ट्रंप ने ट्विटर पर लताड़ लगाई। उन्होंने लिखा- मिनी माइक ब्लूमबर्ग ने अपने तीसरे दर्जे के समाचार संगठन को निर्देश दिया है कि वह उनकी या किसी डेमोक्रेट की जांच न करें, बल्कि राष्ट्रपति ट्रंप का ही पीछा करें। न्यूयॉर्क टाइम्स के कार्यकारी संपादक द्वारा ट्रंप अभियान के फैसले की निंदा करने के बाद ट्रंप ने लिखा- पतन की ओर जा रहे न्यूयॉर्क टाइम्स को लगता है कि यह ठीक है, क्योंकि उनकी नफरत और पूर्वाग्रह इतने महान हैं कि वे इसे देख भी नहीं सकते। यह ठीक नहीं है!

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai