मेलबर्न। ऑस्ट्रेलियन एयरलाइन क्वांटस एयरवेज दुनिया की सबसे लंबी उड़ान की टेस्टिंग कर रही है। इस फ्लाइट में बैठने के बाद यात्री 19 घंटे हवा में रहेंगे। इस फ्लाइट से बिना रुके सिडनी से न्यूयॉर्क और लंदन का सफर यात्री कर सकेंगे। मगर, इससे पहले ऑस्ट्रेलियाई एयरलाइन को यह सुनिश्चित करने की जरूरत होगी कि क्या यात्री इतनी लंबी यात्रा को पूरा करने में सक्षम होंगे। लिहाजा, एयरलाइन ने इसकी टेस्टिंग शुरू की है।

एयरलाइन ने गुरुवार को घोषणा की कि वह इस साल के अंत में तीन "अल्ट्रा-लॉन्ग-हॉल रिसर्च फ्लाइट्स" चलाएगी। तीनों की उड़ान करीब 19 घंटे की होगी और इसमें यह देखा जाएगा कि यात्री व चालक दल इस अनुभव को कैसे संभालते हैं। नई बोइंग 787-9 फ्लाइट में अधिकतम 40 लोग ही सवार हो सकेंगे। इस फ्लाइट में एयरलाइन के कर्मचारियों की संख्या ज्यादा होगी और सामान कम से कम होगा।

उड़ान के दौरान यात्रियों का परीक्षण भी किया जाएगा। उन्हें ऐसे उपकरण पहनने होंगे, जिससे पता चल सके कि वह उड़ान के दौरान कैसे खाते-पीते हैं, सोते हैं और चलते हैं या अपनी पूरी यात्रा को कैसे हैंडल करते हैं। शोधकर्ता उड़ानों के पहले और बाद में पायलटों के मेलाटोनिन के स्तर को रिकॉर्ड करेंगे, साथ ही साथ उनके मस्तिष्क की तरंग पैटर्न और सतर्कता को भी ट्रैक करेंगे। एयरलाइन अन्य लंबी उड़ानों के निष्कर्षों का भी परीक्षण करेगी, जो पहले से ही चल रही हैं। इसमें खाने के बारे में फीडबैक, डेडिकेटेड स्ट्रेचिंग जोन और मनोरंजन विकल्प शामिल होंगे।

क्वांटस ग्रुप के सीईओ एलन जॉयस ने घोषणा में कहा- अल्ट्रा-लॉन्ग-हाउल फ्लाइंग में यात्रियों और चालक दल के आराम के बारे में बहुत सारे सवाल हैं। ये उड़ानें उन्हें जवाब देने में मदद करने के लिए अमूल्य डेटा मुहैया कराएंगी। हम तीन रिसर्च फ्लाइट शुरू करने जा रहे हैं, जिससे भविष्य की लंबी उड़ानों में यात्रियों और चालक दल की देखभाल कैसे करें, इसका पता चल सकें। इस फ्लाइट के लिए सभी बोइंग विमान सिएटल में बोइंग की फैक्ट्री से नए लिए जाएंगे।