दोहा। कतर ने गुरुवार को इस बात से इनकार किया कि वह खाड़ी सहयोग परिषद (Gulf Cooperation Council or GCC) को छोड़ने की योजना बना रहा है क्योंकि वह क्षेत्रीय ब्लॉक के बाहुबली देश सऊदी अरब के नेतृत्व में तीन साल के अलगाव को चिह्नित करने के लिए तैयार है। हालांकि, गैस संपन्न राज्य ने चेतावनी दी कि दोहा को आर्थिक और राजनीतिक रूप से अलग-थलग करने के लिए जीसीसी के छह सदस्यों में से तीन के प्रयास से क्षेत्र के लोग संगठन पर "संदेह और सवाल" कर रहे थे।

जीसीसी की स्थापना साल 1981 में की गई थी और इसका मुख्यालय रियाद में है। जीसीसी को छोड़ने की कतर की अफवाहें हाल के हफ्तों में खाड़ी देशों की राजधानियों में फैल रही हैं। विश्लेषकों और राजनयिकों ने इसे एक संभावना के रूप में माना है। कतर की सहायक विदेश मंत्री लोलवा अल-खातर ने यह दावा करते हुए कहा कि कतर के जीसीसी छोड़ने पर विचार करने की जो बातें सामने आ रही हैं, वे पूरी तरह से गलत और निराधार है।

उन्होंने कहा कि ऐसी अफवाहें लोगों की निराशा और जीसीसी के टूटने की निराश के साथ उत्पन्न हुई हैं, जो छह सदस्य देशों के लोगों के लिए आशा और आकांक्षा का स्रोत हुआ करती थीं। जैसा कि हम सऊदी, यूएई और बहरीन द्वारा कतर पर अवैध नाकाबंदी के तीसरे वर्ष तक पहुंच रहे हैं, इसमें कोई आश्चर्य नहीं है कि जीसीसी के लोग एक संस्था के रूप में जीसीसी पर संदेह और सवाल कर रहे हैं।

कतर को उम्मीद है कि सहयोग और समन्वय के मंच के रूप में जीसीसी एक बार फिर से एक होगा। हमारे क्षेत्र के सामने आने वाली चुनौतियों को देखते हुए अब एक प्रभावी जीसीसी की जरूरत पहले से कहीं अधिक है। बताते चलें कि सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात और बहरीन ने गैर-जीसीसी सदस्य मिस्र के साथ मिलकर जून 2017 में दोहा के साथ राजनयिक, आर्थिक और यात्रा संबंधों में अचानक कटौती कर दी थी।

उनका आरोप था कि कतर, ईरान के बहुत करीब था और कट्टरपंथी इस्लामी आंदोलनों का समर्थन कर रहा था। कतर ने इस आरोप को जमकर खंडन किया और अपने सहयोगियों से विरोधी बन गए देशों द्वारा की गई 13 में से किसी भी मांग को मानने से इनकार कर दिया। इनमें दोहा स्थित अल जजीरा समाचार नेटवर्क को बंद करना और एक तुर्की आधार को बंद करना शामिल है। 5 जून को इस विवाद के तीन साल पूरे हो जाएंगे। इस संगठन के दो अन्य सदस्य ओमान और कुवैत हैं।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना