यूक्रेन के राष्ट्रपति कार्यालय ने कहा है कि मंगलवार रात 11 यूक्रेनी शहरों और गांवों पर 30 से ज्यादा मिसाइलें रूसी सेना दागीं। इनमें भारी नुकसान की खबर है। रूसी सेना ने बुधवार को एक बार फिर यूक्रेन पर मिसाइलों का बड़ा हमला किया। यह हमला यूक्रेन के परमाणु बिजलीघरों को बंद कराने की नीयत से किया गया। हमले के बाद दक्षिण और पश्चिम भाग में स्थित तीन परमाणु संयंत्रों में काम बंद हो गया। इसके अतिरिक्त यूक्रेन की पावर ग्रिड को भी निशाना बनाया गया। इसके चलते यूक्रेन के बड़े इलाके में अंधेरा छा गया है।

बिगड़ते हालात के बीच यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने अविलंब सुरक्षा परिषद की बैठक बुलाने की मांग की है जिससे रूस को रोका जा सके। पड़ोसी देश माल्दोवा के भी आधे से अधिक क्षेत्र की बिजली गुल हो गई है। यूक्रेन का समर्थन कर रहे इस देश की रूस ने गैस आपूर्ति बंद कर रखी है। यूक्रेन ने दावा किया है कि उसकी सेना ने लुहांस्क प्रांत में बने रूसी सेना के अस्त्रागार पर भीषण हमला किया। इस हमले में करीब 50 रूसी सैनिक मारे गए हैं और करीब इतने ही घायल हुए हैं। इसके अतिरिक्त हथियार और गोला-बारूद का भी भारी नुकसान हुआ है।

इस बीच अमेरिका ने 40 करोड़ डालर की नई सैन्य सहायता का एलान किया है। ताजा रूसी हमले में राजधानी कीव में तीन लोग मारे गए हैं। ऊर्जा मंत्रालय ने कहा है कि देश के कोयला और पानी से चलने वाले अधिकतर विद्युत संयंत्र बंद हो गए हैं। कुछ में मरम्मत का काम चल रहा है। उत्तर-पूर्वी शहर कुपियांस्क में रूसी हमले में दो नागरिकों की मौत हुई है और दो अन्य घायल हुए हैं। इन हमलों में नौ मंजिला इमारत और एक मेडिकल क्लीनिक को भारी नुकसान हुआ है।

Posted By: Navodit Saktawat

  • Font Size
  • Close