मॉस्को। जब तक संयुक्त राज्य अमेरिका, यूरोप और एशिया में समान संयम दिखाता, तब तक रूस अपनी नई मिसाइलों को तैनात नहीं करेगा। रूस के रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगू ने वाशिंगटन द्वारा सोवियत युग के हथियारों के समझौते से हटने के बाद रविवार को यह बात कही। मॉस्को द्वारा संधि का उल्लंघन करने और एक प्रतिबंधित प्रकार की मिसाइल तैनात करने का आरोप लगाने के बाद संयुक्त राज्य अमेरिका ने औपचारिक रूप से इस महीने की शुरुआत में रूस के साथ इंटरमीडिएट न्यूक्लियर फोर्सेज (INF) संधि को छोड़ दिया था।

हालांकि, क्रेमलिन ने वॉशिंगटन की ओर से लगाए गए इन आरोपों से इनकार किया है। अमेरिका के बाद रूस ने भी इस समझौते से हाथ खींच लिए हैं, लेकिन शोईगु ने कहा कि नई मिसाइलों को तैनात करने की उनकी कोई योजना नहीं है। हम अभी भी उस समझौते पर तब तक बने हुए हैं, जब तक कि यूरोप में वाशिंगटन द्वारा मिसाइलों को तैनात करने का कोई कदम नहीं उठाया जाता है। तब तक हम भी वहां कुछ नहीं करेंगे।

पैक्ट में 500 किमी से 5,500 किमी दूरी तक जमीन से जमीन पर मार करने वाली मिसाइलों पर प्रतिबंध लगा दिया था। इससे दोनों देशों के बीच कम समय में परमाणु हमले शुरू करने की क्षमता घट गई थी। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने चेतावनी दी है कि अगर हथियार नियंत्रण संधि के खत्म के बाद संयुक्त राज्य अमेरिका ने भी ऐसा करना शुरू किया, तो मॉस्को छोटी और मध्यम दूरी की भूमि-आधारित परमाणु मिसाइल विकसित करना शुरू कर देगा।