मॉस्को। रूस के सेंट पीटर्सबर्ग से 12 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक छोटे से गांव इस्तिन्का के एक दंपति ने अपने घर के पीछे की जगह पर गीजा के महान पिरामिड की एक ठोस प्रतिकृति बनाई है। जमीन से 9 मीटर ऊपर और 9 मीटर गहरी माप, और लगभग 400 टन कंक्रीट ब्लॉक से मिलाकर बनी इस्तिन्का के पिरामिड की संरचना उस असली पिरामिड से 19 गुना छोटी है, जिसने इसे बनाने के लिए प्रेरित किया। इसके मालिकों एंड्री वख्रुशेव और उनकी पत्नी विक्टोरिया के अनुसार, आकार के अंतर के अलावा, दोनों ही संरचनाओं में वास्तव में काफी समानता हैं।

दंपति का दावा है कि इस परियोजना के लिए विस्तार पर ध्यान देना महत्वपूर्ण था। उन्होंने कहा कि उन्होंने पिरामिड के डिजाइन का अध्ययन करने में वर्षों बिताए और सब कुछ सही होने के लिए कई बार वहां का दौरा किया। एंड्री ने कहा कि मैं वास्तव में एक सेंटीमीटर तक की सटीकता के साथ, सही स्तर पर, सटीक आकार प्राप्त करने का प्रयास कर रहा था। मैं इसमें एक दो सेंटीमीटर की भी त्रुटि नहीं लाना चाहता था। मैं इस पिरामिड को बनाने में पर्फेक्शन से कम कुछ भी नहीं स्वीकार करना चाहता था।

बेशक, हमारे द्वारा उपयोग किए जाने वाले ब्लॉक अलग हैं, लेकिन यह अभी भी एक अखंड संरचना है। हमने चिनाई के मामले में सावधानीपूर्वक गणना की, इसे एक विशेष तरीके से बनाया ताकि यह जितना संभव हो उतना असली पिरामिड की तरह हो।

अपने पिरामिड के सटीक आकार की गणना करने के बाद एंड्री और विक्टोरिया ने इसका निर्माण करने में मदद करने वाले कॉन्ट्रेक्टर की तलाश में एक महीना तक बिताया। मगर, उन्हों कोई भी ऐसा नहीं मिला, जो उनके विनिर्देशों के अनुसार इसे बना सके। आखिरकर एक ठेकेदार मिला, जिसने वास्तव में सोचा था कि यह प्रोजेक्ट बेहतरीन था। पिरामिड बनने के बाद पहली बार मार्च में रूस में इसकी चर्चा होनी शुरू हुई।

नेव्स्की न्यूज की रिपोर्ट है कि एंड्री ने दावा किया कि निर्माण प्रक्रिया के दौरान चोट लगने वाले सभी श्रमिकों की चोट पिरामिड के अंदर जल्दी ठीक हो गई। निर्माण प्रक्रिया के दौरान निर्माण टीम का कोई भी सदस्य कभी भी बीमार नहीं पड़ा। मेट्रो न्यूज के अनुसार, विक्टोरिया ने कहा कि उनके पिरामिड लोगों की इम्यूनिटी (प्रतिरक्षा) को बढ़ावा दे सकते हैं और कोरोना वायरस संक्रमण से लोगों को बचा सकते हैं।

जो लोग पिरामिड की चिकित्सा और सुरक्षात्मक शक्तियों से लाभ उठाना चाहते हैं, वे ध्यान करने और अपनी ऊर्जा से भरने के लिए इसके अंदर एक रात ठहरने के लिए बुकिंग करा सकते हैं। हालांकि, उन्हें ऐसा करने के लिए रात भर में 50 डॉलर (3,500 रुपए) से लेकर 140 डॉलर तक खर्च करने होंगे।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Raksha Bandhan 2020
Raksha Bandhan 2020