रियाद। सऊदी अरब में इस सप्ताह दुनिया की सबसे अमीर घुड़दौड़ प्रतियोगिता होने जा रही है। इसमें विजेता को दो करोड़ डॉलर (एक अरब 43 करोड़ 48 लाख रुपए) का नकद पुरस्कार दिया जाएगा। बताते चलें कि अति-रूढ़िवादी इस देश ने हाल के वर्षों में खेल प्रतियोगिताओं के लिए भारी निवेश किया है। इसके जरिये देश अपनी नरम सत्ता और अधिक उदारवादी छवि बनाने की कोशिश कर रही है, जिसके ऊपर अक्सर मानवाधिकारों के हनन और कट्टरपंथी विचारधारा को बढ़ाने का आरोप लगता रहा है।

माना जा रहा है कि द सऊदी कप को देखने के लिए करीब 10 हजार से ज्यादा दर्शक आएंगे। यह आयोजन 29 फरवरी को किंग अब्दुलअजीज रेसट्रैक में मुख्य रेस 1800 मीटर के ट्रैक पर अधिकतम 14 फील्ड होंगे। विजेता को एक करोड़ डॉलर (करीब 71 करोड़ रुपए) मिलेंगे, दूसरे स्थान पर आने वाले को 35 लाख डॉलर और यहां तक ​​कि 10वें स्थान पर आने वाले खिलाड़ी को भी अच्छी खासी राशि मिलेगी।

सऊदी कप में सात दौड़ डर्ट और टर्फ पर होगी, जिसके लिए 9.2 मिलियन डॉलर का पुरस्कार दिया जाएगा। सऊदी अरब के जॉकी क्लब में रणनीति और अंतर्राष्ट्रीय रेसिंग के निदेशक टॉम रयान ने कहा कि हम घरेलू रेकॉर्डिंग प्रोडक्ट को अपने अंतर्राष्ट्रीय समकक्षों के बराबर लाने के लिए पहला कदम उठा रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह खेल सऊदी अरब में खेल का अनुसरण बढ़ाने के साथ-साथ अंतरराष्ट्रीय घोड़ों के लिए उद्योग खोलने और वैश्विक रेसिंग पर हमारी पहचान बनाने की दिशा में बड़ा कदम होगा।

सऊदी के पत्रकार मुगबेल अल-जबनी ने कहा कि यह आयोजन सऊदी संस्कृति में मायने रखता है, जहां घोड़े को अपनी विरासत का प्रतीक माना जाता है। सऊदी कप में बड़े जॉकी के नाम में इटली के दिग्गज फ्रेंकी डेटोरी और ब्रिटेन के रयान मूर शामिल हैं। द रेसिंग पोस्ट ने कहा कि सात अंतरराष्ट्रीय महिला जॉकी में से एक निकोला करी, सऊदी अरब में प्रतिस्पर्धी दौड़ में सवारी करने वाली पहली महिला बनकर इतिहास रचेंगी।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai