Science News: अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा का दावा है कि उसने एक ग्रह को खोजा है। जो पृथ्वी से चार गुना बड़ा है। इसे सुपर अर्थ कहा जा रहा है। इसका वैज्ञानिक नाम रॉस 508बी है। स्पेस एजेंसी के अनुसार इस ग्रह पर 10.8 दिनों में एक साल बीत जाता है। यह सौर मंडल के बाहर तारे की परिक्रम कर रहा है। वहीं स्टार हैबिटेट जोन में अंदर-बाहर हवा में घूम रहा है। इस तरह के ग्रह को एक्सोप्लानेट कहा जाता है। पृथ्वी से ये एक्सोप्लानेट लगभग 37 प्रकाश वर्ष दूरी पर है।

रॉस 508बी में हो सकता है पानी

जिस प्रकार धरती सूरज की परिक्रमा करती है। उसी तरह सुपर अर्थ एम-टाइप स्टार का चक्कर लगाती है। एम-टाइप स्टार सूर्य की तुलना में लाल, ठंडा और मंद है। इन्हें रेड डार्फ स्टार भी कहते है। लाल बौने तारे सौर मंडल के आसपास काफी है। गैलेक्सी में तीन-चौथाई तारे बनाते हैं। नासा ने रॉस 508बी में पानी की संभावना जताई है।

पहले भी मिल चुकी है सुपर अर्थ

साल 2020 में एक सुपर अर्थ की खोज हुई थी। न्यूजीलैंड के कैंटरबरी यूनिवर्सिटी के खगोलशास्त्रियों ने इस ग्रह की खोज की थी। इसका साइज और द्रव्यमान पृथ्वी के बराबर बताया था। इस ग्रह का तारा सूरज के द्रव्यमान का 10 फीसदी है। वैज्ञानिकों ने पृथ्वी और वरुण (Neptune) के बीच का द्रव्यमान आंका था। यह शुक्र और पृथ्वी के बीच मूल तारे की परिक्रमा लगाते हुए देखा गया था।

Posted By: Shailendra Kumar

  • Font Size
  • Close