कांगो की सरकार ने सोमवार को घोषणा की है कि इबोला वायरस बीमारी का नया प्रकोप इक्वाटर प्रांत में वांगता क्षेत्र में हो रहा है। देश के स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि वांगटा में अब तक इबोला के छह मामलों का पता चला है, जिनमें से चार की मौत हो चुकी है। इबोला के दो मरीज जीवित हैं और उनकी देखभाल की जा रही है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) के महानिदेशक डॉक्टर टेड्रोस एडहोम घेबियस ने कहा कि यह याद दिलाता है कि Covid-19 ही लोगों के लिए स्वास्थ्य समस्या नहीं है।

हालांकि, हमारा अधिकांश ध्यान महामारी पर है, लेकिन WHO कई अन्य स्वास्थ्य आपात स्थितियों की निगरानी कर रहा है और प्रतिक्रिया दे रहा है। कांगो ने अभी तक अपने पूर्वी इलाके में स्वास्थ्य समस्या खड़ी करने वाले इबोला वायरस के आधिकारिक रूप से खत्म होने की घोषणा नहीं की है। अगस्त 2018 में महामारी शुरू होने के बाद से वहां अभी तक कम से कम 2,243 लोगों की मौत हो चुकी है।

बताते चलें कि साल 1976 में देश में पहली बार इस वायरस का पता चलने के बाद से यह कांगो में इबोला का 11वां प्रकोप है। स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर एटनी लोंगोंडो के अनुसार, 18 मई को पीड़ितों की मृत्यु हो गई, लेकिन इबोला की पुष्टि करने वाले परीक्षण के परिणाम सप्ताहांत में मिले। डब्ल्यूएचओ ने कहा कि उन्होंने पहले से ही अपनी टीम वहां भेज दी थी।

Covid-19 पहले से ही कांगो के 25 प्रांतों में से सात में फैल चुका है, जहां 3,000 से अधिक मामलों की पुष्टि हो चुकी है और 72 मरीजों की मौत हो चुकी है। हालांकि, कई अफ्रीकी देशों की तरह, कांगो ने बेहद सीमित परीक्षण किए हैं और पर्यवेक्षकों को डर है कि कोरोना की वजह से मृतकों की संख्या कहीं अधिक हो सकती है।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना