ओस्लो। नार्वे की मस्जिद में गोलीबारी करने वाले 21 वर्षीय संदिग्ध हमलावर फिलिप मनशाउस को सोमवार को कोर्ट में पेश किया गया। जब वह कोर्ट पहुंचा तो उसकी आंख, चेहरे और गर्दन पर चोट के निशान थे।

फिलिप पर सौतेली बहन की हत्या का भी आरोप लगाया गया है। कई हथियारों से लैस फिलिप शनिवार को यहां अल-नूर इस्लामिक सेंटर में घुस गया था। वहां उसकी गोलीबारी में एक व्यक्ति घायल हो गया था।

प्रत्यक्षदर्शियों ने यह बताया

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक 65 वर्षीय एक बुजुर्ग ने उसे काबू में कर लिया था, जिसके बाद उसे गिरफ्तार किया गया। फिलिप के वकील के मुताबिक उसने अभी कोई जुर्म नहीं कुबूला है।

पुलिस मान रही आतंकी घटना

पुलिस इसे आंतकी घटना मानकर जांच कर रही है। हमले से ठीक पहले फिलिप के नाम पर कई पोस्ट किए गए थे, जिनमें गत मार्च में न्यूजीलैंड की दो मस्जिदों पर हुए हमलों की सराहना की गई थी।

अभी पोस्ट की पुष्टि नहीं

अभी इसकी पुष्टि नहीं हुई है कि ये पोस्ट उसने खुद किए थे या नहीं। शनिवार की घटना पर खेद जताते नार्वे की प्रधानमंत्री एर्ना सोलबर्ग ने कहा कि उनकी सरकार घृणा अपराधों को खत्म करने के लिए पुरजोर प्रयास कर रही है।