ताइपे। ताइवान ने पर्यटकों के लिए अनोखी पेशकश की है। यहां के राष्ट्रपति ऑफिस में उन्हें एक रात ठहरने का मौका दिया जा रहा है और वह भी बिल्कुल फ्री में। अधिकारी रेड कार्पेट बिछाए मेहमानों का स्वागत करने के लिए तैयार हैं। हैरान हो गए न। दरअसल, चीन की तरफ से लगाए गए सोलो ट्रेवल बैन की वजह से यहां का पर्यटन व्यवसाय सुस्त पड़ गया है।

राष्ट्रपति साई इंग-वेन ने एक अंग्रेजी वीडियो में कहा- मैं आपको ताइवान घूमने आने और यहां के लोगों की गर्मजोशी व आतिथ्य का अनुभव करने के लिए आमंत्रित करती हूं। और जब आप यहां हैं, तो आप मेरे अतिथि क्यों नहीं बनते और इस राष्ट्रपति कार्यालय की इमारत में रात क्यों नहीं गुजारते? हालांकि, इसके लिए आवेदकों को 20 वर्ष से अधिक आयु का होना चाहिए, जो एक गैर-ताइवानी नागरिक हो और रोजाना की अपनी यात्रा का एक "रचनात्मक वीडियो" पेश करता हो। बताया जा रहा है कि राष्ट्रपति आवास अक्टूबर से पर्यटकों को मिल सकेगा।

राष्ट्रपति के प्रवक्ता जेवियर चांग ने कहा- 20 अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों को 100 साल पुराने ताइपे लैंडमार्क में फ्री में यहां ठहरने का मौका मिलेगा। यदि वे सुबह 5:30 बजे उठ सकते हैं, तो उन्हें रोजाना झंडारोहण समारोह का निमंत्रण भी दिया जाएगा। यह कार्यक्रम दुनिया में अपनी तरह का पहला कार्यक्रम है और हमारा लक्ष्य ताइवान की स्वतंत्रता, लोकतंत्र और खुलेपन को दिखाना है।

यह घोषणा ऐसे समय में की गई है, जब कुछ हफ्ते पहले चीन ने इस द्वीप पर अकेले यात्रा करने के परमिट को निलंबित करने की घोषणा की थी। चीन के इस फैसले से ताइवान की अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंच सकता है। तीन साल पहले साई के कार्यभार संभालने के बाद से मुख्य भूमि के पर्यटकों में तेज गिरावट आई है। उनकी डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (DPP) ने बीजिंग पर आरोप लगाया कि वह आगंतुकों को "हथियार के रूप में" इस्तेमाल कर रहा है, ताकि उनकी सरकार को खतरा हो।

बीजिंग अभी भी अपने क्षेत्र के हिस्से के रूप में लोकतांत्रिक द्वीप पर अपना दावा करता है और उसने कहा है कि यदि जरूरत हुई, तो बलपूर्वक ताइवान को चीन में मिला लिया जाएगा। हालांकि, DPP इस विचार को मान्यता देने से इंकार करता है कि ताइवान "एक चीन" का हिस्सा है।