Pakistan News: प्रतिबंधित तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (TPP) ने सोमवार को पाकिस्तान सरकार के साथ गत जून में किये गये अनिश्चित कालीन संघर्षविराम समझौते को खत्म करने का फैसला किया है। इसके साथ ही टीटीपी ने अपने लड़ाकों को पाकिस्तानभर में हमले के आदेश दिये हैं। उग्रवादी संगठन ने अपने बयान में कहा, ‘विभिन्न इलाकों में मुजाहिदीन (उग्रवादियों) के खिलाफ सैन्य अभियान चलाया जा रहा है, इसलिए आपके लिए यह बाध्यकारी हो जाता है कि आप देशभर में जहां भी हो सके वहां हमला करें।’ टीटीपी को पाकिस्तानी तालिबान के नाम से भी जाना जाता है। टीटीपी का गठन विभिन्न उग्रवादी संगठनों के एक संयुक्त समूह के रूप में वर्ष 2007 में किया गया था।

पाकिस्तान के लिए बढ़ी मुसीबत

हमलों का ये फैसला पाकिस्तान के लिए सिरदर्द बननेवाला है। आपको बता दें कि एक दिन पहले ही इंग्लैंड की क्रिकेट टीम 17 सालों के बाद पाकिस्तान पहुंची है। वहीं सेना प्रमुख जनरल बाजवा भी मंगलवार को सेवानिवृत्त होने वाले हैं। बयान में कहा गया कि इसने कई बार लोगों को संघर्षविराम के उल्लंघन के प्रति आगाह किया, लेकिन फिर भी धैर्य दिखया ताकि बातचीत की प्रक्रिया कम से कम उसके द्वारा बाधित ना हो. बयान में कहा गया कि, ‘सेना और खुफिया एजेंसियों ने लगातार किये जा रहे हमलों को बंद नहीं किया। अब हमारा जवाबी हमला देशभर में शुरू होगा।’ टीटीपी के बयान पर अभी सरकार और खुफिया एजेंसियों की ओर से काई बयान नहीं आया है।

पाकिस्तानी सेना की कार्रवाई जारी

वहीं सोमवार को उत्तर पश्चिमी पाकिस्तान में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ के दौरान टीटीपी कमांडर समेत दस आतंकी मारे गए। सुरक्षा सूत्रों ने यह जानकारी दी है। सूत्रों के मुताबिक खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के दक्षिण वजीरिस्तान कबायली जिले की सीमा से लगे अशांत लक्की मारवत जिले में तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) के आतंकियों और सुरक्षा बलों के बीच मुठभेड़ में टीटीपी कमांडर टीपू और दस अन्य आतंकी मारे गए।

Posted By: Shailendra Kumar

  • Font Size
  • Close